"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 17 दिसंबर 2010

"देखो मैंने चित्र बनाया" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

IMG_2471 - pranjalब्लैकबोर्ड पर श्वेत चॉक से,
देखो मैंने चित्र बनाया। 
अपने कोमल अनुभावों से,
मैंने इसको खूब सजाया।।

खेतों में छोटी सी कुटिया,
जिसके आगे पगदण्डी है।
छायादार वृक्ष भी तो हैं,
जिनकी हवा बहुत ठण्डी है।।

इस छोटे से कच्चे घर में,
गर्मी मुझको नहीं सताती।
जाड़े के मौसम में प्रतिदिन,
धूप गुनगुनी बहुत सुहाती।।

प्यार भरे सम्बन्ध यहाँ हैं,
भीड़-भाड़ का नाम नहीं है।
श्रम और श्रमिक समाज यहाँ हैं,
आलस का कुछ काम नहीं है।।

घर-घर में हैं सन्त विनोबा,
चौपालों में गांधी बाबा,
अन्न बरसता है खेतों में,
ग्राम हमारा काशी-काबा।

♥चित्रांकन-प्रांजल शास्त्री♥

20 टिप्‍पणियां:

  1. छोटे शास्त्री जी के चित्रांकन के क्या कहने... और पंडित जी आपकी कविता बचपन के गलियारों में ले जाती हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  2. कविता का चित्र और चित्र की कविता....दोनों सुन्दर
    बधाई प्रांजल...

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut sundar chitra hai aur kavita ne chaar chaand laga diye..

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर चित्र और और उस चित्र के अहसासों में पहुँचाने वाली सशक्त भावपूर्ण कविता..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. चित्र और कविता .. दोनो लाजबाब हैं .. प्रांजल शास्‍त्री को शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी पोस्ट की चर्चा कल (18-12-2010 ) शनिवार के चर्चा मंच पर भी है ...अपनी प्रतिक्रिया और सुझाव दे कर मार्गदर्शन करें ...आभार .

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    उत्तर देंहटाएं
  7. सशक्त भावपूर्ण कविता..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर चित्र और कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर चित्र जी प्रांजल शास्त्री को बहुत बहुत प्यार ओर आशिर्वाद, ओर बहुत सुंदर कविता.
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर चित्र और सुन्दर कविता ....प्रिय प्रांजल को बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. kya kahu.....sat sat pranam karta hu aapki lekhni ko aur aapko....aaj bas aap jaise mahan aatmao ke chalte hi to kaavya jagat jivit hai.....bhut hi sundar lagti hai aapki rachna......humsab par yuhi aashirwaad banaye rakhe....dhanyawaad

    उत्तर देंहटाएं
  12. चित्र और कविता .. दोनो लाजबाब हैं॥

    उत्तर देंहटाएं
  13. कविता और चित्र प्राँजल की तरह ही सुन्दर हैं बधाई और उसे आशीर्वाद।

    उत्तर देंहटाएं
  14. चित्रकार प्रांजल तो चित्रकार है
    आप तो शब्द चित्र ही बना डाले
    बेहतरीन चित्र और शब्द चित्र

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails