"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 4 मार्च 2011

"फिर से आई होली" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

गूँज रही है मन-उपवन में कोयलिया की बोली।
वासन्ती सपनों को लेकर फिर से आई होली।।

रंग-बिरंगे कुसुम खिले हैं, बगिया और चमन में,
अँगारे जैसे दहके हैं, टेसू फिर से वन में,
मन्द-सुगन्ध पवन ने, तन में मादकता सी घोली।
वासन्ती सपनों को लेकर फिर से आई होली।।

रंग, अबीर-गुलाल, शान से हँसते-मुस्काते हैं,
लोग-लुगाई प्रणयगीत खुश हो करके गाते हैं,
अपनी धुन में बौराए से थिरक रहे हमजोली।
वासन्ती सपनों को लेकर फिर से आई होली।।

मन में दबी हुई गाँठों के गठबन्धन को खोलें,
प्रेम-प्रीत के रंगों से सब गिले-शिकायत धो लें,
अपनेपन के अरमानों से भर जाएगी झोली।
वासन्ती सपनों को लेकर फिर से आई होली।।

सबके घर-आँगन में फिर से बौझारें बरसेंगी,
बच्चों के हाथों में फिर से पिचकारी सरसेंगी,
देवर और भाभी में जमकर होगी हँसी-ठिठोली।
वासन्ती सपनों को लेकर फिर से आई होली।।
क्रूर होलिका होली की लपटों में जल जाएगी,
प्रिय प्रह्लाद की अशुभ घड़ी भी फिर से टल जाएगी,
झूम-झूमकर फिर से गलियों में निकलेंगी टोली।
वासन्ती सपनों को लेकर फिर से आई होली।।

16 टिप्‍पणियां:

  1. झूम-झूमकर फिर से गलियों में निकलेंगी टोली।वासन्ती सपनों को लेकर फिर से आई होली।।
    होली का स्वागत है आपको भी होली की हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर रचना ... आपको होली बहुत बहुत मुबारक हो शास्त्री जी ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. sunder rachana, aapke blog ko yahan bhi saraha gaya hai is link ko dekhiye " kuch acche blog - meri najar se "

    http://eksacchai.blogspot.com per

    उत्तर देंहटाएं
  4. होलिका दहन और होली के आने वाले त्यौहार का प्रारम्भ कर दिया है आपने अपनी रचना के साथ |
    सुन्दर भावपूर्ण रचना |बधाई
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  5. होली में आपकी रचना बेमिसाल है... इसमें तो होली के हर रंग है... होलिका दहन से ले कर प्रणय रंग.. टेसू ..सब... होली के स्वागत गीत के साथ आपको होली पर अग्रिम शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  6. होलिका के सुन्दर चित्र के साथ ही होली का आह्वान.
    शुभकामनाएँ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. रंग-बिरंगे कुसुम खिले हैं, बगिया और चमन में,
    अँगारे जैसे दहके हैं, टेसू फिर से वन में,
    मन्द-सुगन्ध पवन ने, तन में मादकता सी घोली।
    वासन्ती सपनों को लेकर फिर से आई होली।।

    होली का स्वागत ...बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    मर्मस्पर्शी एवं भावपूर्ण काव्यपंक्तियों के लिए कोटिश: बधाई !
    आपको सपरिवार होली पर अग्रिम वासन्ती शुभकामनायें..

    उत्तर देंहटाएं
  8. झूम-झूमकर फिर से गलियों में निकलेंगी टोली।
    वासन्ती सपनों को लेकर फिर से आई होली।

    होली के स्वागत में बहुत सुन्दर रंगों से परिपूर्ण गीत ...होली की हार्दिक बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  9. झूम-झूमकर फिर से गलियों में निकलेंगी टोली।
    वासन्ती सपनों को लेकर फिर से आई होली।

    होली के स्वागत में बहुत सुन्दर रंगों से परिपूर्ण गीत ...होली की हार्दिक बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  10. डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" जी,

    होली का सुंदर स्वागत गीत....
    "फिर से आई होली"....

    मन में दबी हुई गाँठों के गठबन्धन को खोलें, प्रेम-प्रीत रंगों से सब गिले-शिकायत धो लें, अपनेपन के अरमानों से भर जाएगी झोली। वासन्ती सपनों को लेकर फिर से आई होली।।

    बहुत सुंदर रचना !
    बढ़िया प्रस्तुति पर ....होली की हार्दिक बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह ...बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते शब्‍द इस रचना के ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही सुंदर रचना, शुभकामनाएं.

    रामराम

    उत्तर देंहटाएं
  13. होली आनेवाली है! ख़ुशियाँ लानेवाली है!

    उत्तर देंहटाएं
  14. 278—02-11

    हर दिन,हर शख्श,हर मजहब, दिल से होली मनाए


    होली आती
    सवाल मन में पैदा करती
    क्यों पेड़ों की कटाई होती
    क्यों डालियाँ जलाई जाती
    निरंतर बाँझ हो रही धरती
    की क्यों हंसी उडाई जाती
    प्यार भाई चारे की मिसाल
    मानी जाती
    मगर रंगों में मिलावट होती
    जबरदस्ती चन्दा उगाही
    की जाती
    ज़िन्दगी बदरंग पर
    होली रंगों से खेली जाती
    भांग ,शराब खूब चढ़ाई जाती
    नशे को तरजीह दी जाती
    नहीं खेले तो,
    जबरदस्ती खिलाई जाती
    खूब मार पिटाई होती
    दीवारें गंदी करी जाती
    अश्लीलत़ा खुल कर दिखाई जाती
    क्यों ना रीत बदल दें
    बिना पेड़ काटे होली जलाएँ
    निरंतर रंग जीवन में भर दें
    ना दीवारें गंदी हों
    ना ज़बरदस्ती हो
    होली की कोई तिथी तारीख ना हो
    हर दिन,हर शख्श,हर मजहब
    दिल से होली मनाए
    नए रंगों से उसे सजाएँ
    19-02-2011
    डा.राजेंद्र तेला"निरंतर",अजमेर
    {आपकी होली पर सुन्दर प्रस्तुती के जवाब में एक तुच्छ भेंट}

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails