"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 19 मार्च 2011

"देख तमाशा होली का" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


मित्रों !
आज किसी ने आकर बताया कि
कल होली के अवसर पर
एक समस्यापूर्ति (तरही-मिसरा) पर आधारित
कविगोष्ठी खटीमा में आयोजित की जा रही है।
जिसका शीर्षक रखा गया है-
"देख तमाशा होली का"
अचानक कुछ पंक्तियाँ बन गई हैं
आप भी इनका आनन्द लीजिए!
मस्त फुहारें लेकर आया,
मौसम हँसी-ठिठोली का।
देख तमाशा होली का।।

उड़ रहे पीले-हरे गुलाल,
हुआ है धरती-अम्बर लाल,
भरे गुझिया-मठरी के थाल,
चमकते रंग-बिरंगे गाल,
गोप-गोपियाँ खेल रहे हैं,
खेला आँख-मिचौली का।
देख तमाशा होली का।।

मस्त फुहारें लेकर आया,
मौसम हँसी-ठिठोली का।
देख तमाशा होली का।।

पिचकारी बच्चों के कर में,
हुल्लड़ मचा हुआ घर-घर में,
हुलियारे हैं गली-डगर में,
प्यार बसा हर जिगर-नजर में,
चारों ओर नजारा पसरा,
फागुन की रंगोली का।
देख तमाशा होली का।।

मस्त फुहारें लेकर आया,
मौसम हँसी-ठिठोली का।
देख तमाशा होली का।।

डाली-डाली है गदराई,
बागों में छाई अमराई,
गुलशन में कलियाँ मुस्काई,
रंग-बिरंगी तितली आई,
कानों को अच्छा लगता सुर,
कोयलिया की बोली का।
देख तमाशा होली का।।

मस्त फुहारें लेकर आया,
मौसम हँसी-ठिठोली का।
देख तमाशा होली का।।


गीत प्यार का आओ गाएँ,
मीत हमारे सब बन जाएँ,
बैर-भाव को दूर भगाएँ,
मिल-जुलकर त्यौहार मनाएँ,
साथ सुहाना मिले सभी को,
होली में हमजोली का।
देख तमाशा होली का।।

मस्त फुहारें लेकर आया,
मौसम हँसी-ठिठोली का।
देख तमाशा होली का।।

20 टिप्‍पणियां:

  1. रंगों का त्यौहार बहुत मुबारक हो आपको और आपके परिवार को..........

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर ....होली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर तरीके से समस्या पूर्ति की..

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर ....
    होली के सुअवसर पर आप और आपके परिवार को होली की हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. होली की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  6. होली की शुभकामनायें...... हैप्पी होली

    उत्तर देंहटाएं
  7. हफ़्तों तक खाते रहो, गुझिया ले ले स्वाद.
    मगर कभी मत भूलना,नाम भक्त प्रहलाद.
    होली की हार्दिक शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  8. शास्त्री जी, आपको होली की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  9. देख तमाशा होली का,
    झूम मचाती टोली का।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर गीत.

    होली पर्व की घणी रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  11. यह तो बहुत सुन्दर गीत बना है ...होली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  12. रंगों ने धमाल मचाया
    देख तमाशा होली का
    प्राची प्रांजल दौडे आये
    रंगों की बरखा बरसाये
    देख तमाशा होली का

    आपको और आपके पूरे परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. होली के पर्व की अशेष मंगल कामनाएं।
    आइए इस शुभ अवसर पर वृक्षों को असामयिक मौत से बचाएं तथा अनजाने में होने वाले पाप से लोगों को अवगत कराएं।

    उत्तर देंहटाएं
  14. होली की बधाइयाँ और शुभकामनाएं ,,.

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही बेहतरीन.....

    आपको परिवार सहित होली की बहुत-बहुत मुबारकबाद...

    हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails