"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 7 मार्च 2011

" कुण्डलिया छन्द की शुरूआत" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")



मित्रों!
आज से कुण्डलिया छन्द की शुरूआत कर रहा हूँ!
देखिए मेरे दो दोहों पर रची हुई ये दो कुण्डलियाँ!
  
(1)
ज्ञान बाँटने से कोई, होता नहीं विपन्न।
विद्या धन का दानकर, बन जाओ सम्पन्न।।
बन जाओ सम्पन्न, करो कल्याण सभी का।
पावन-पावन कर्म, हमेशा लगता नीका।।
अब 'मयंक' चल पड़ा, झाड़-झंकाड़ काटने। 
निकला हूँ निष्काम, छन्द का ज्ञान बाँटने।।

(2)
भूसी-चावल सँग रहें, तभी बढ़े परिवार।
हुए धान से जब अलग, बाँट खाय संसार।।
बाँट खाय संसार, निभाओ साथ हमेशा।
करो सरल व्यवहार, दूध-मक्खन के जैसा।।
कह 'मयंक' कविराय, बहाओ धारा निर्मल।
रहो संग में ऐसे, जैसे भूसी-चावल।।

30 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढिया शास्त्री जी। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आद. शास्त्री जी,
    दोनों ही कुण्डलियों का जवाब नहीं !
    पहली कुण्डली में 'नीका' शब्द का प्रयोग इतना सुन्दर बन पड़ा है कि क्या कहूँ !
    ब्लॉग जगत को आपका योगदान स्तुत्य है !
    शुभकामनाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुंडलिया छंद में लिखी सुन्दर रचनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  4. नमन आपका, शास्त्रीजी...
    उत्तम रचनाएँ...
    कुण्डलियों की रचना के मूल को समझाएँ तो कृपा होगी...

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदरणीय शास्त्री जी - धन्यवाद्

    उत्तर देंहटाएं
  6. हम तो आपकी काव्य-रचना के कायल हैं शास्त्री जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अरे वाह शास्त्री जी ये गज़ब आप ही कर सकते हैं……………बडे जोरदार कुण्डलियाँ छ्न्द हैं………आपकी काव्य रचना की यही सबसे बडी खासियत है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. ज्ञान बाँटने से कोई, होता नहीं विपन्न।
    विद्या धन का दानकर, बन जाओ सम्पन्न।।
    बन जाओ सम्पन्न, करो कल्याण सभी का।
    पावन-पावन कर्म, हमेशा लगता नीका।।
    सभी उम्दा और उच्च कोटि के दोहे है शास्त्री जी !

    उत्तर देंहटाएं
  9. ज्ञान बाँटने से कोई, होता नहीं विपन्न।
    विद्या धन का दानकर, बन जाओ सम्पन्न ...

    दोनों ही कुण्डलियों का जवाब नहीं शास्त्री जी ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. ज्ञान बांटकर कोई होता नहीं निर्धन ...

    आजकल तो लोग ज्ञान बांटकर ही करोडपति हो रहे हैं , अब निस्वार्थ विद्या दान करने वाले भी गिनतियों में ही हैं ..

    कुंडलियों के माध्यम से सार्थक सन्देश !

    उत्तर देंहटाएं
  11. छंदज्ञान कराती सुन्दर रचना....

    आप हमारे प्रेरणास्रोत हैं शास्त्रीजी !

    उत्तर देंहटाएं
  12. bahut sunder rachnaye padhneko mili......
    kuch nai jankari bhi mili jinko mai nahi janti thi....

    उत्तर देंहटाएं
  13. ब्लॉग तो हजारों देखे, ना देख्यो उच्चारण सा कोय |
    कह 'दर्शन' कविराय, मन 'मयंकवाणी' में खोय ||

    उत्तर देंहटाएं
  14. दोनों ही कुण्डलियां बहुत अच्छी लिखी हैं आपने शास्त्री जी... शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  15. अब 'मयंक' चल पड़ा, झाड़-झंकाड़ काटने। निकला हूँ निष्काम, छन्द का ज्ञान बाँटने।।

    क्या बात है गुरु जी. बहुत ही बढ़िया लेखन ओर बहुत ही बढ़िया प्रयास. शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  16. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 08-03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    उत्तर देंहटाएं
  17. बड़ी ही सुन्दर व अनुसरणीय कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  18. निकला हूँ निष्काम, छन्द का ज्ञान बाँटने।।
    hamari shubhkamna is nek kaam ke liye aapke saath hai.bahut achcha likhe hain.

    उत्तर देंहटाएं
  19. सार्थक सन्देश देती बहुत सुन्दर कुण्डलियाँ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  20. शास्त्री जी बहुत ही सुंदर कुंडलिया वो भी खास कर पहले से रचे गये दोहों के ऊपर| सादर नमन आदरणीय|

    उत्तर देंहटाएं
  21. bahut sundar rachna ! raho saath men aise boosi-chaval jaise ...badhai evm shubhkamnaen !

    उत्तर देंहटाएं
  22. ज्ञानवर्धक सुंदर कुण्डलियाँ

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails