"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 23 मार्च 2011

‘‘बहुत अच्छा लगता है।’’ डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’


शिष्ट मधुर व्यवहार, बहुत अच्छा लगता है।
सपनों का संसार, बहुत अच्छा लगता है।।

फूहड़पन के वस्त्र, बुरे सबको लगते हैं,
जंग लगे से शस्त्र, बुरे सबको लगते हैं,
स्वाभाविक श्रंगार, बहुत अच्छा लगता है।
सपनों का संसार, बहुत अच्छा लगता है।।

वचनों से कंगाल, बुरे सबको लगते हैं,
जीवन के जंजाल, बुरे सबको लगते हैं,
सजा हुआ घर-बार, बहुत अच्छा लगता है।
सपनों का संसार, बहुत अच्छा लगता है।।

चुगलखोर इन्सान, बुरे सबको लगते हैं,
सूदखोर शैतान, बुरे सबको लगते हैं,
सज्जन का सत्कार, बहुत अच्छा लगता है।
सपनों का संसार, बहुत अच्छा लगता है।।

लुटे-पिटे दरबार, बुरे सबको लगते हैं,
दुःखों के अम्बार, बुरे सबको लगते हैं,
हरा-भरा परिवार, बहुत अच्छा लगता है।
सपनों का संसार, बहुत अच्छा लगता है।।

मतलब वाले यार, बुरे सबको लगते हैं,
चुभने वाले खार, बुरे सबको लगते हैं,
निश्छल सच्चा प्यार, बहुत अच्छा लगता है।
सपनों का संसार, बहुत अच्छा लगता है।।

18 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सार्थक सन्देश...बहुत सुन्दर..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर सार्थक सन्देश.
    सुन्दर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सार्थक सन्देश...बहुत सुन्दर
    आपके व्लाग पर आना बहुत अच्छा लगता है , बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  5. * बुरा आपको क्या लगे और लगे क्या ठीक।
    मुझको तो अच्छे लगे भाव विचार प्रतीक।।

    * इसी तरह लिखते रहें कविता नित्य नवीन।
    'उच्चारण'से सीख ले हम सब बनें प्रवीण॥

    * जितने सक्रिय आप हैं उतना कहीं न कोय।
    जालजगत पर आपकी दिन-दिन उन्नति होय।

    उत्तर देंहटाएं
  6. अच्छे बुरे का सुन्दर विश्लेषण।

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक बहुत सुन्दर ओर सार्थक सन्देश, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. सपनों का संसार, बहुत अच्छा लगता है।।-bahut sundar kavita .

    उत्तर देंहटाएं
  9. सार्थक सन्देश देती रचना |बहुत अच्छी लगी |बधाई
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपके व्लाग पर आना "बहुत अच्छा लगता है"..बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह वाह के कहे आपके शब्दों के बारे में जीतन कहे उतन कम ही है | अति सुन्दर
    बहुत बहुत धन्यवाद् आपको असी पोस्ट करने के लिए
    कभी फुरसत मिले तो मेरे बलों पे आये
    दिनेश पारीक

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुंदर, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  13. । अच्छे और बुरे का बहुत सुन्दरता से आकलन किया है…………बहुत सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  14. achcha bura sab samajhte hain parantu
    usko panktiyon me dhaalna koi aapse seekhe.....lajabab,atiuttam rachna.

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सार्थक सन्देश...बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails