"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 26 मार्च 2011

"ठगते हैं ये सारे" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

पीछे मुड़ कर कभी न देखें, अपना आज सँवारें।
औरों के गुण-दोष न देखें, अपना काज सुधारें।।

स्वर्ग यहीं और नर्क यहीं है, किसने देखी जन्नत,
चारों ओर सजे हैं अपने, सुन्दर-सुखद नज़ारे।।

मानव चोला पाकर हम, अपने को मनुज बनाएँ,
चंचल मन में प्रीत-रीत के, पीताम्बर को धारें।।

क्षमा-सरलता और धैर्य ही, सच्चे आभूषण हैं।
सोच-समझकर-नाप-तोलकर, ही हम शब्द उचारें।।

पर उपदेश कुशल बहुतेरे, छाये दुनिया भर में।
जग को झोंक रहे लहरों में, खुद हैं खड़े किनारे।।

ऐसे ढोंगी सन्त-महन्तो से, बच करके रहना।
धार धर्म का धवल लबादा, ठगते हैं ये सारे।।

13 टिप्‍पणियां:

  1. जो जैसा गुरु चाहता है, मिल जाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. jag ko jhonk rahe lahron me khud hain khade kinare....bahut khoob.ek ek shabd saarthak hai.achchi prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्षमा-सरलता और धैर्य ही, सच्चे आभूषण हैं।
    सोच-समझकर-नाप-तोलकर, ही हम शब्द उचारें।।

    डॉ.शास्त्री जी,
    सही कहा आपने।
    गहन अनुभूतियों और जीवन दर्शन से परिपूर्ण इस रचना के लिए आपका आभार....

    सादर....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सुन्दर कहा अपने बहुत सी अच्छे लगे आपके विचार
    फुर्सत मिले तो अप्प मेरे ब्लॉग पे भी पधारिये

    उत्तर देंहटाएं
  5. पर उपदेश कुशल बहुतेरे, छाये दुनिया भर में।
    जग को झोंक रहे लहरों में, खुद हैं खड़े किनारे।।
    'शानदार रचना की शानदार पंकि्त :

    उत्तर देंहटाएं
  6. ठग तो हर जगह हैं, इन्हें पहचान कर बचना ही उचित है..

    उत्तर देंहटाएं
  7. ऐसे ढोंगी सन्त-महन्तो से, बच करके रहना।
    धार धर्म का धवल लबादा, ठगते हैं ये सारे||

    आपके विचार मुझे बहुत पसंद है शास्त्री जी --

    उत्तर देंहटाएं
  8. पर उपदेश कुशल बहुतेरे, छाये दुनिया भर में।
    जग को झोंक रहे लहरों में, खुद हैं खड़े किनारे।

    बहुत सार्थक और बेहतरीन प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  9. स्वर्ग यहीं और नर्क यहीं है, किसने देखी जन्नत बहुत अच्छा...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails