साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 21 जनवरी 2013

"चिन्तन-मन्थन" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


ये कैसा चिन्तन-मन्थन है?
गीदड़ ने रँग लिया बदन को, 
ख़ानदान का ही वन्दन है।
ये कैसा चिन्तन-मन्थन है?

जब अबला की लाज लुटी थी,
ये गीदड़  घर में बैठा था,
जब-जब बहस हुई संसद में,
ये अपने मद में ऐंठा था,
आज उसी का अभिनन्दन है!
ये कैसा चिन्तन-मन्थन है?

सीधी-सादी सोनचिरैया,

राजनीति से त्रस्त हुई है,
मक्कारों की करतूतों से,
भोली जनता ग्रस्त हुई है,
सूख गई वाटिका प्यार की,
वीराना कानन नन्दन है।
ये कैसा चिन्तन-मन्थन है?

जिनको समझा परम हितैषी,

हुए लुटेरे वो अधिकारी,
खादी की केंचुली पहन कर,
लूट रहे हैं खेती-क्यारी,
मँहगाई के कारण अब तो,
चारों ओर मचा क्रन्दन हैं।
ये कैसा चिन्तन-मन्थन है?

18 टिप्‍पणियां:

  1. जब अबला की लाज लुटी थी,
    ये गीदड़ घर में बैठा था,
    जब-जब बहस हुई संसद में,
    ये अपने मद में ऐंठा था,
    आज उसी का अभिनन्दन है!

    एक झन्नाटेदार रचना कस कर तमाचा मारा है आपने …………नमन है आपके लेखन को

    उत्तर देंहटाएं
  2. शांतचित्त गुरुवर व्यथित, गीदड़ की सरकार |
    कुत्ते इज्जत लूटते, नारी करे पुकार |
    नारी करे पुकार, गला सैनिक का रेता |
    धारदार हथियार, किन्तु बैठा चुप नेता |
    इनकी जय जय कार, देश भक्तों को गाली |
    सारी जनता आज, बन गई सवाली ||

    उत्तर देंहटाएं
  3. Sundar aur karara vichar , जब अबला की लाज लुटी थी,
    ये गीदड़ घर में बैठा था,
    जब-जब बहस हुई संसद में,
    ये अपने मद में ऐंठा था,
    आज उसी का अभिनन्दन है!
    ये कैसा चिन्तन-मन्थन है?

    उत्तर देंहटाएं
  4. आँसूं पोछने को आता नही,अब करवाता है अभिनन्दन।
    सब तरफ चापलूसों की है दुनियाँ,करना इनका मर्दन।।

    खानदानी अभिनन्दन पर करारेदार तमाचा,बहुत ही भावपूर्ण रचना,धन्य है आपकी लेखनी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बाबा नागार्जुन की याद दिला दी आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच्ची कविता । राहुल की हाइपोक्रेसी और कांग्रेस जनों का लांगूलचालन ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार 22/1/13 को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका वहां स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं

  8. जितने हरामखोर थे कुर्बो -जवार में
    परधान बनके आ गए अगली कतार में

    दीवार फांदने में यूँ जिनका रिकार्ड था
    वो चौधरी बने हैं उमर के उतार में

    उत्तर देंहटाएं
  9. चिंतन शिविर का ढोंग (पहली क़िस्त )

    इस देश को आज़ादी दिलाने का दावा जो कांग्रेस करती आई है वह अंशतया

    सही है ,सम्पूर्ण सच नहीं है .सम्पूर्ण सच तो यह है कि दूसरे विश्वयुद्ध के

    बाद इंग्लैण्ड की स्थिति इतनी ज़र्ज़र हो गई थी कि वह भारत जैसे विशाल

    देश को अपने पंजे में दबाए रखने की शक्ति खो चुका था .रही सही कसर

    1946 के नौसैनिक विद्रोह ने पूरी कर दी थी .

    देश के असंख्य क्रांतिकारियों के बलिदानों और महात्मा गांधी की अहिंसक

    क्रान्ति ने मिलकर अंग्रेजी शासकों की नींद हराम कर दी थी .वीरसावरकर

    ,सुभाषचन्द्र बोष जैसे क्रांतिकारी कर्मशीलों और संगठित सैनिक शक्ति के


    रूप में उभरी आज़ाद हिन्द फौज की दृढ़ता ने विदेशी शासकों की जड़ों में

    मठ्ठा डाल दिया था .गांधीजी तो कांग्रेस के चवन्निया सदस्य भी नहीं थे



    इसलिए उनकी नैतिक शक्ति को अपनी कायर नीतियों से जोड़ना कांग्रेस

    की बे -शर्मी है .गांधी जी के आगमन से पहले तक यानी 1920 के आसपास

    तक कांग्रेसी नेताओं ने अंग्रेजी सरकार की चापलूसी के वक्तव्य देने और

    कहीं कहीं समझौते की मुद्रा अपनाने के सिवाय कुछ उल्लेखनीय नहीं

    किया था .इसलिए इतिहास का वास्तविक सच तो यही है कि भारत की

    आज़ादी की

    लड़ाई में कांग्रेस की कोई महत्वपूर्ण भूमिका नहीं है .1920 से सन 1947

    तक कांग्रेस की एक मात्र उपलब्धि यही है कि धर्म के आधार इस देश को

    बंटवाने का निंदनीय और अधूरा कार्य कांग्रेस के नेताओं ने किया .अगर

    इस पर भी कांग्रेस गर्वित होती है तो शर्मशार कब होगी ,जब एक

    पाकिस्तान और बनवा देगी? जयपुर चिंतन शिविर में इन्हीं दो मुद्दों पर

    चिंतन होना चाहिए था .पर चापलूस तालियों के बीच राहुल गांधी की पीठ

    पर उपाध्यक्ष की मोहर लगा देने से क्या मिल गया ?सच्चे कांग्रेसियों को

    इस पर अपने शुद्ध अंत :करण से विचार करना चाहिए .

    (ज़ारी )

    उत्तर देंहटाएं
  10. ये कैसा चिन्तन-मन्थन है?
    गीदड़ ने रँग लिया बदन को,
    ख़ानदान का ही वन्दन है।
    ये कैसा चिन्तन-मन्थन है?
    अजी कैसा चिंतन मंथन .देश के एक और बंटवारे की तैयारी है .आरक्षित कोटे का गृहमंत्री राष्ट्रीय सांस्कृतिक संगठन एवं प्रमुख विपक्षी पार्टी भाजपा को अभिनवभारत (कथित )हिन्दू आतंकवादी संगठन को ट्रेनिंग मुहैया करवाने वाला गाठ जोड़ बतलाता है .वह" चुप्प्पा मुंह" जो कभी -कभी ही खुलता है इस देश के संशाधनों पर मुसलामानों का पहला हक़ बतलाता है .और ये मंदमति बालक जिसकी पीठ पे उपाध्यक्ष होने का ठप्पा लगा दिया गया है हिन्दू आतंकवाद को जिहादी आतंवाद से ज्यादा खतरनाक बतलाता है .यदि ऐसा है तो भारत सरकार क्या कर रही है .साध्वी प्रज्ञा और कई अन्यों को अँधेरे में क्यों रखा हुआ है कसाब क्यों नहीं बना देती उनका .

    ये सेकुलर जो कल तक इंसान थे नहीं जानते ये कह क्या रहें हैं .वह वक्र मुखी भोपाली बाज़ीगर कह रहे थे मैं तो यह बात कब से कह रहा हूँ आतंकी संगठन है आर एस एस और भाजपा .गृह मंत्री ने तो आज कहा है .पूछा जा सकता है .क्या गृह मंत्री को कहने के लिए बिठाया हुआ है कुछ करते क्यों नहीं .पाकिस्तान को और हिन्दुस्तान में सभी स्लीपर सेल्स को आतंकियों के ठिकानों को शै दे रहे हैं आओ खुलकर खेलो बहुत दिन हो गए धमाका नहीं हुआ पटाखे नहीं छूटे सेकुलर भारत में .यही मौक़ा है आओ पाकिस्तान आओ .दिल्ली पे धावा बोलो .हम हिन्दू आतंकवादियों का नाम लगायेंगे .एक और पाकिस्तान बनायेंगे .

    एक प्रतिक्रिया ब्लॉग पोस्ट :

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत करारा व्यंगात्मक कवित, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  12. ये कैसा चिन्तन-मन्थन है?...koi nahin samajh pa raha hai.

    उत्तर देंहटाएं
  13. ये कोई चिंतन मंथन नहीं था बल्कि ये राहुल के नाम का कीर्तन था !!

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत खूब !
    डाकुओं से घिरा हो कोई अगर
    लगता है उस समय
    कोई बात नहीं
    सबसे अच्छा है जो
    उसके घर का है
    उसके अपने घर का
    ही है जो चोर है!

    उत्तर देंहटाएं
  15. शास्त्री जी - ये परिंदे जो हवा में सनसनी घोले हुए हैं एक और पाकिस्तान बनवाना चाहते हैं .ये सब ताली बजाने वाले चापलूस हैं .इसनकी साजिशें नाकाम करनी होंगी .

    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ

    सोमवार, 21 जनवरी 2013
    चिंतन शिविर का ढोंग

    http://veerubhai1947.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  16. जनता अब जाग चुकी है ... मंथन क्रंदन सब जानती है ... करारा व्यंग्य

    उत्तर देंहटाएं
  17. सटीक एवं प्रासंगिक पंक्तियाँ ......

    उत्तर देंहटाएं
  18. जयपुर के चिंतन शिवर पर करारा व्यंग्य

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails