"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 24 जनवरी 2013

"ऐसे होगा देश महान" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

"ऐसे होगा देश महान"
जब होगा मेरे भारत में  सबसे सुखी किसान।
तब जग का शिरमौर बनेगा, अपना हिन्दुस्तान।।
"ऐसे होगा देश महान"
भ्रष्टाचारी जब खेतों में, कंकरीट नहीं बोयेंगे,
गट्ठर बाँध अन्न की जब सब, अपने सिर पर ढोयेंगे,
कहलायेगा तब ही अपना भारत देश महान।
तब जग का शिरमौर बनेगा, अपना हिन्दुस्तान।।
"ऐसे होगा देश महान"
भोग छोड़कर लोग यहाँ, जब सहज योग अपनायेंगे,
मदिरा-मांस छोड़ प्राणी, जब शाक-सब्जियाँ  खायेंगे,
भौंडे गाने छोड़ गायें सब,  देशभक्ति के गान।
तब जग का शिरमौर बनेगा, अपना हिन्दुस्तान।। 
"ऐसे होगा देश महान"
जब शिक्षा की दूकानों में ज्ञान, न बेचा जायेगा,
तब अध्यापक को श्रद्धा से, गुरू पुकारा जायेगा,
विद्यालय से शिक्षित होकर, निकलेंगे विद्वान।
तब जग का शिरमौर बनेगा, अपना हिन्दुस्तान।। 
"ऐसे होगा देश महान"
जिस दिन वीर सैनिकों का सम्मान बढ़ाया जायेगा,
दुश्मन को उसकी भाषा में, सबक सिखाया जायेगा,
क़ायम रखना होगा हमको, आन-बान-अभिमान।
तब जग का शिरमौर बनेगा, अपना हिन्दुस्तान।। 
"ऐसे होगा देश महान"
अपनी धरती पर, अपना कानून बनाना होगा,
सत्ता से कायर लोगों को, हमें हटाना होगा,
अलग बनानी होगी अपनी, दुनिया में पहचान।
तब जग का शिरमौर बनेगा, अपना हिन्दुस्तान।। 
"ऐसे होगा देश महान"

23 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय सर प्रणाम, इतना सुन्दर विचार अगर मानव जीवन में भर जाये तो वाकई हमारा देश महान हो जायेगा. आपकी इस सुन्दर सोंच को नमन एवं जागृत करती इस रचना हेतु हार्दिक बधाई. वन्दे मातरम्.

    उत्तर देंहटाएं
  2. अपनी धरती पर, अपना कानून बनाना होगा,
    सत्ता से कायर लोगों को, हमें हटाना होगा,
    अलग बनानी होगी अपनी, दुनिया में पहचान।
    तब जग का शिरमौर बनेगा, अपना हिन्दुस्तान।।
    "ऐसे होगा देश महान" .
    सार्थक प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. काश ऐसा जल्दी से जल्दी हो जाये..

    उत्तर देंहटाएं
  4. हम लोग इस पर कायम हो जायें तो आनन्द ही आ जाये.

    उत्तर देंहटाएं
  5. हम कहते है "काश !ऐसा जल्दी से जल्दी हो जाये." -सुन्दर अभिव्यक्ति
    New post कृष्ण तुम मोडर्न बन जाओ !

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  7. Sir Ji,bahut hi uttam vichar,desh ka vikas kisano ke vikah ke bagair sambhv hi nahi hai."n bijli hai n pani hai mikamml pet khali hai,bechare kisani ki jindgi puri hi sawali hai...a'

    उत्तर देंहटाएं
  8. सचमुच,ये कटु सत्य को,मिले सार्थक शब्द |
    शायद ऐसे ही कभी, बदले 'युग-प्रारब्ध ||

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाकई इतना सब हो जाए तो भारत को महान होने से कोई नहीं रोक सकता है !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत बढिया रचना, कवि तो आशा ही कर सकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. हमें भी इंतज़ार है जब अपना देश ऐसे ''महान'' होगा

    बहुत बढिया रचना

    उत्तर देंहटाएं
  12. बात तो आपने सही कही है, दुनिया में खुद को फिर से प्रतिष्ठित करने के लिए हमें इन बातों पर गौर करना ही चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  13. अपनी धरती पर, अपना कानून बनाना होगा,
    सत्ता से कायर लोगों को, हमें हटाना होगा,
    अलग बनानी होगी अपनी, दुनिया में पहचान।
    तब जग का शिरमौर बनेगा, अपना हिन्दुस्तान।।
    "ऐसे होगा देश महान"

    सुन्दर संदेश देती सार्थक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  14. जिस दिन वीर सैनिकों का सम्मान बढ़ाया जायेगा,
    दुश्मन को उसकी भाषा में, सबक सिखाया जायेगा,
    क़ायम रखना होगा हमको, आन-बान-अभिमान।
    तब जग का शिरमौर बनेगा, अपना हिन्दुस्तान।।
    "ऐसे होगा देश महान"
    अपनी धरती पर, अपना कानून बनाना होगा,
    सत्ता से कायर लोगों को, हमें हटाना होगा,
    अलग बनानी होगी अपनी, दुनिया में पहचान।
    तब जग का शिरमौर बनेगा, अपना हिन्दुस्तान।।

    भाव बोध को जगाती झिन्झोड़ ती है यह रचना :

    जिस दिन वीर सैनिकों का सम्मान बढ़ाया जायेगा,
    दुश्मन को उसकी भाषा में, सबक सिखाया जायेगा,
    क़ायम रखना होगा हमको, आन-बान-अभिमान।
    तब जग का शिरमौर बनेगा, अपना हिन्दुस्तान।।
    "ऐसे होगा देश महान"
    अपनी धरती पर, अपना कानून बनाना होगा,
    सत्ता से कायर लोगों को, हमें हटाना होगा,
    अलग बनानी होगी अपनी, दुनिया में पहचान।
    तब जग का शिरमौर बनेगा, अपना हिन्दुस्तान।।



    भाई ,शुक्रिया आपकी टिपण्णी का


    आप उत्प्रेरक बन आते हैं .ईद -उल -मिलाद मुबारक .

    उत्तर देंहटाएं
  15. जब सब अपने व्यवसाय में आनन्द पाने लगें, तब होगा सुखी हिन्दुस्तान..

    उत्तर देंहटाएं
  16. गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएँ!

    दिनांक 26/01/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  17. सार्थक और बहुत ही बेहतरीन रचना...
    गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएँ...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails