"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 12 मई 2013

"प्रतिदिन मातादिवस है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मित्रों!
आज मातृदिवस है!
आप सबको मातृदिवस की शुभकामनाएँ प्रेषित करता हूँ..!
प्रतिदिन मातादिवस है, रोज़ करो गुणगान।
प्रतिदिन होना चाहिए, माता का सम्मान।।

ममता का पर्याय है, जग में माँ का नाम।
माँ की पूजा से मिलें, हमको चारों धाम।।

सच्चे मन से माँ सदा, देती है आशीष।
चरण-युगल में मातु के, रोज नवाना शीश।।

माता ने जीवन दिया, दुनिया दी दिखलाय।
माता के ऋण से कभी, मुक्ति न कोई पाय।।

18 टिप्‍पणियां:

  1. बेहद खूबसूरत रचना..मातृ दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहतरीन प्रस्तुति

    अति सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  3. माता के ऋण से कभी, मुक्ति न कोई पाय।।

    सच कहा आपने ......शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच माँ का एक दिन हो ही नहीं सकता उसका तो हरदिन है .. बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    मातृ दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. माँ को प्रणाम .........माँ के लिए कोइ एक दिन न्यायसंगत नही लगता
    लेकिन हाँ एक दिन विशिष्ट हो सकता है माँ के लिए ....................
    जैसे जन्म का दिन एक हो होता है ............मातृ दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर.,मातृ दिवस पर रचना...शुभकामनाये...

    उत्तर देंहटाएं
  7. ब्लॉग बुलेटिन के माँ दिवस विशेषांक माँ संवेदना है - वन्दे-मातरम् - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  8. अति सुन्दर,आपको भी मातृ दिवस की शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  9. सच कहा आपने !
    भोजन-पानी प्रतिदिन, प्रतिदिन ऐश का हर सामान |
    फिर क्यों ना हम करें रोज़ हम नारी का सम्मान !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच कहा आप ने !
    भोजन- पानी प्रतिदिन, प्रतिदिन ऐश के सब सामान |
    फी प्रतिदिन क्यों करें नहीं हम, माता का सम्मान !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर रचना ...मातृत्व दिवस की बधाई 

    उत्तर देंहटाएं
  12. विश्व की समस्त माताओं को नमन. सृष्टि की रचयित्ता हैं वे.

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुंदर भाव शास्त्री सर!
    सच है! हर दिन मातृ-दिवस है! माँ का ऋण कभी कोई नहीं चुका सकता.....
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. सच ही कहा है आपने ....हर दिन माँ का है

    हर माँ को नमन

    उत्तर देंहटाएं
  15. कल 11/05/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails