"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 25 मई 2013

"आम फलों का राजा होता, लीची होती रानी" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

आम फलों का राजा होता
लीची होती रानी
गुठली ऊपर गूदा होता
छिलका है बेमानी
 
जब बागों में कोयलिया ने,
अपना राग सुनाया
आम और लीची का समझो,
तब मौसम है आया
 
पीले, लाल-हरे रंग पर,
सब ही मोहित हो जाते
ये खट्टे-मीठे फल सबके,
मन को बहुत लुभाते
 
लीची पक जाती है पहले,
आम बाद में आते
बच्चे, बूढ़े-युवा प्यार से,
इनको जमकर खाते
 
ठण्डी छाँव, हवा के झोंके,
अगर चाहते पाना
घर के आँगन में फलवाले,
बिरुए आप लगाना 

17 टिप्‍पणियां:

  1. lichi aur aam ke swadist guno me rang bharti rachna ,ati sundar

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर चित्रो से सजी लीची ओर आम कि कविता सुन्दर लगी....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूबसूरत चित्रण किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर।

    आम देखे, ऐसी लीची नहीं देखी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आम और लीची...गर्मी को खुशगवार बना देते हैं, बहुत मधुर रचना.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  6. सरल भाषा में लिखी आपकी रचनाये सुखद हैं ...
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर चित्रों से सजी बेहतरीन प्रस्तुति,मैंने तो बहुत सारे आम के पेड़ लगा रखें है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (26-05-2013) के चर्चा मंच 1256 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बेहतरीन सरल भाषा में सुंदर रचना,,,

    RECENT POST : बेटियाँ,

    उत्तर देंहटाएं
  10. kya bat hai ....garmi ke side effects ko door karti rachna ....

    उत्तर देंहटाएं
  11. वाह,लीची और आम
    गरमी का कैसा रसभरा अंजाम !


    उत्तर देंहटाएं
  12. guru ji pranamm
    रचना पढ़कर आपकी मेरा मन हर्षाया
    लीची आम के स्वाद से मुंह में पानी आया

    उत्तर देंहटाएं
  13. खुबसूरत चित्र के साथ आम और लीची के मीठा मीठा वर्णन बहुत अच्छा लगा !

    latest post: बादल तू जल्दी आना रे!
    latest postअनुभूति : विविधा

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails