"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 10 फ़रवरी 2011

"छाया हुआ अन्धेरा है" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

धरती पर जागा है जीवन,
सोया हुआ सवेरा है।
नजर न आती सूर्य रश्मियाँ,
छाया हुआ अन्धेरा है।।
कागा और कबूतर अपने 
नीड़ छोड़कर निकल पड़े,
थर-थर काँप रहें सर्दी से, 
कुहरे में ये वृक्ष खड़े,
फागुन में छाया है कुहरा,
तम ने डाला डेरा है।
नजर न आती सूर्य रश्मियाँ,
छाया हुआ अन्धेरा है।।
दुर्घटनाएँ घटाटोप हैं
संकट के बादल छाए,
काला-काला सा बसन्त है,
गीत-छन्द हैं बौराए,
कैसे हम मधुमास मनाएँ,
विपदाओं ने घेरा है।
नजर न आती सूर्य रश्मियाँ,
छाया हुआ अन्धेरा है।।
कलियों की चटकन की ध्वनि
भी नहीं सुनाई देती है,
सुरभित शाखाएँ उपवन में,
नहीं दिखाई देती हैं,
नवप्रभात में भुवनभास्कर,
ने नजरों को फेरा है।
नजर न आती सूर्य रश्मियाँ,
छाया हुआ अन्धेरा है।।

15 टिप्‍पणियां:

  1. शास्त्री जी ,क्या कहने इस कुहासे में लिपटी हुई
    आपकी कविता सूरज की तरह रौशनी फेला रही हे --धन्यवाद इस खूब सुरत कविता के लिए |

    उत्तर देंहटाएं
  2. ANDHERA HATANE KA PRAYAS , YAA INTAJAR KARANA PADEGA....ACHCHHI SABERA.

    उत्तर देंहटाएं
  3. दुर्घटनाएँ घटाटोप हैं
    संकट के बादल छाए,
    काला-काला सा बसन्त है,
    गीत-छन्द हैं बौराए,
    कैसे हम मधुमास मनाएँ,
    विपदाओं ने घेरा है।
    नजर न आती सूर्य रश्मियाँ,
    छाया हुआ अन्धेरा है।।

    सही कह रहे हैं…………मगर अन्धकार के बाद ही सवेरा होता है………यही उम्मीद करते हैं…………सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  4. शास्‍त्री जी अच्‍छा गीत बन पड़ा है, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी आज की इस कविता में निराशावाद कैसे ?

    उत्तर देंहटाएं
  6. नजर न आती सूर्य रश्मियाँ,
    छाया हुआ अन्धेरा है।।
    वाह बेहतरीन पंक्तियाँ ...
    आज कल हमारे भारत को भी कुछ इसी प्रकार के अंधेरों का सामना करना पड़ रहा है... उम्मीद है की जल्दी ही सवेरा होगा

    उत्तर देंहटाएं
  7. पण्डित जी! वसंतोत्सव के स्वर से आपने हठात यू टर्न कैसे ले लिया!!! सीधा माघ से पूस!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. नवप्रभात में भुवनभास्कर,
    ने नजरों को फेरा है।
    नजर न आती सूर्य रश्मियाँ,
    छाया हुआ अन्धेरा है।
    बहुत सुंदर पंक्तियां....पर अंधकार के बाद ही सवेरा होता है....अंधकार जरूर दूर होगा

    उत्तर देंहटाएं
  9. कल हमारे यहां भी बहुत गहरा कोहरा था जी, सुंदर कविता के लिये धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  10. Yadi vastav me dharti per jivan jaag jaye,to savere ko bhi jagana hoga aur andhere ko bhi bhagna hoga.
    Intjar hai dharti per jivan jagne ka.
    Aapki is sunder prastuti ke liye
    bahut bahut aabhar.

    उत्तर देंहटाएं
  11. दिन के बाद रात और रात के बाद दिन. यही जीवन चक्र है. बहुत सुंदर रचना.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  12. bahut khoobsurat kavita.shabd aapki kalam se samayanusar nikalte hain.bahut khoob prernadayak.

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails