"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 26 फ़रवरी 2011

"भैंस हमारी बहुत निराली" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


सीधी-सादी, भोली-भाली।
लगती सुन्दर हमको काली।।

भैंस हमारी बहुत निराली।
खाकर करती रोज जुगाली।।

इसका बच्चा बहुत सलोना।
प्यारा सा है एक खिलौना।।

बाबा जी इसको टहलाते।
गर्मी में इसको नहलाते।।

गोबर रोज उठाती अम्मा।
सानी इसे खिलाती अम्मा।

गोबर की हम खाद बनाते।
खेतों में सोना उपजाते।।

भूसा-खल और चोकर खाती।
सुबह-शाम आवाज लगाती।।

कहती दूध निकालो आकर।
धन्य हुए हम इसको पाकर।।

17 टिप्‍पणियां:

  1. हमने तो सवारी भी की है... वाह शास्त्री साहब.. क्या खूब रचना कर दी भैंस पर..

    उत्तर देंहटाएं
  2. अपनी तो हाई भैंस पानी मैं. बहुत सुंदर और क्या चित्र लगाया है?

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी बाल कवितायें संग्रहणीय हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. जीवन कभी विस्तार न पाता,
    जो दूध न इसका पेट में जाता.

    सुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  5. डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री जी बाल्टी की तरफ़ देखे दुध बाहर गिर रहा हे...

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह! ये अन्दाज़ भी बहुत भाया…………सुन्दर कविता बन गयी है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह! बहुत सुन्दर बाल कविता..

    उत्तर देंहटाएं
  8. फिर यूँ क्यूँ कहते हैं 'भैंस के आगे बीन बजाये,सब बेकार है '
    या किसी की ठस बुद्धि को 'भैंस जैसी बुद्धि'
    पर गाय के प्रति इसका उल्टा है .

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक बार फिर सरस और रोचक बाल गीत।

    उत्तर देंहटाएं
  10. शास्त्री जी जितना सुन्दर सफेद खरगोश था उतनी सुन्दर काली भैंस है। सुन्दर रचना के लिये बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  11. भैंसिया पर सुंदर कविता है पर जरा भाटिया जी की बात पर ध्यान दिया जाये.:)

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  12. दूध, दूधिया, भैंस, भैंस का बच्चा
    और कविता!
    --
    यहाँ तो आज सब कुछ
    बढ़िया ही बढ़िया दिखाई दे रहा है!

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस बेहतरीन रचना के लिए बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह शास्त्री जी सुंदर कविता - आप दूध भी निकालते हैं?

    दूध दही और घी की खान
    फिर भी नहीं उचित सम्मान

    उत्तर देंहटाएं
  15. इस बेहतरीन रचना के लिए आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. Hamari Gau maata par ek vishesh arthpoorn Lekhan bakhoobi uske badapan mein ek mayoor pankh hai. Shashtri ji is or kabhi hamara dhyaan hi nahin gaya kabhi.
    Jahan n pahunche ravi
    Vahan pahunche hai kavi
    sadar

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails