"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 4 अप्रैल 2011

"मंगलमय हो वर्ष" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


नवसम्वतसर सभी का, करे अमंगल दूर।
देश-वेश परिवेश में, खुशियाँ हों भरपूर।।

बाधाएँ सब दूर हों, हो आपस में मेल।
मन के उपवन में सदा, बढ़े प्रेम की बेल।।

एक मंच पर बैठकर, करें विचार-विमर्श।
अपने प्यारे देश का, हो प्रतिपल उत्कर्ष।।

मर्यादा के साथ में, खूब मनाएँ हर्ष।
बालक-वृद्ध-जवान को, मंगलमय हो वर्ष।। 

18 टिप्‍पणियां:

  1. एक मंच पर बैठकर, करें विचार-विमर्श।
    अपने प्यारे देश का, हो प्रतिपल उत्कर्ष।।

    बहुत ही अच्छे शब्द है आपके ! हवे अ गुड डे !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se
    Latest News About Tech

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक मंच पर बैठकर, करें विचार-विमर्श।
    अपने प्यारे देश का, हो प्रतिपल उत्कर्ष।।

    मर्यादा के साथ में, खूब मनाएँ हर्ष।
    बालक-वृद्ध-जवान को, मंगलमय हो वर्ष।।

    sunder bhavna desh prem ki sir,
    waah , kaash aapki baat hakikat me badal jaye, mai us din ka intejaar karunga...........
    shubkamnaye

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक मंच पर बैठकर, करें विचार-विमर्श।
    अपने प्यारे देश का, हो प्रतिपल उत्कर्ष।।

    बहुत सार्थक सोच..नव संवत्सर की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर रचना।
    नव संवत्सर की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर रचना।
    नव संवत्सर की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  6. मर्यादा के साथ में खूब मनाएं हर्ष ...
    सुन्दर ...
    नव संवत्सर की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर कामना ...नव वर्ष की शुभकामनायें

    चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 05 - 04 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  8. नव संवत्सर की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपको भी नव संवत्सर की हार्दिक शुभकामनायें शास्त्री जी।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुंदर संदेश देती सुंदर रचना ... नव वर्ष मंगलमय हो ....

    उत्तर देंहटाएं
  11. नव संवत्सर की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपको भी नव संवत्सर की बहुत बहुत मंगलकामनाएं.....

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत बहुत बधाई... हम कितने महान हैं कि सत्तावन वर्ष पुराना कैलेण्डर स्वीकारा...

    उत्तर देंहटाएं
  14. नव संवत्सर की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  15. बेहतरीन प्रस्‍तुति .... आपको भी नव संवत्सर की बहुत बहुत मंगलकामनाएं.....।

    उत्तर देंहटाएं
  16. आदरणीय शास्त्री जी आप को परिवार और मित्र मंडली सह नाव सम्वत की ढेरों शुभ कामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  17. अत्यंत सुन्दर दोहे सर...
    आपको सपरिवार नवसंवत एवं चैत्र नवरात्र की सादर बधाईयाँ...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails