"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 10 अप्रैल 2011

"जग की जरूरत-एला व्हीलर विलकॉक्स" (अनुवादक-डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

जग की जरूरत
(THE WORLDS NEED)
Ella Wheeler Wilcox
अनुवादक-डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
बहुत से भगवान,
बहुत से भक्त!
बहुत सी हवाएँ,
बहुत से पथ!
इन कलाओं के पीछे,
क्यों है अनुरक्त!
क्योंकि जग की जरूरत हैं,
सभी दुखी और विरक्त!
Ella Wheeler Wilcox
जन्म-1855
मृत्यु-1919

17 टिप्‍पणियां:

  1. अंतिम पंक्तियाँ दिल को छू गयीं सुन्दर रचना, बधाई और आपको अनुवाद कर हम तक पहुँचाने के लिए धन्यवाद ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह शास्त्री जी…………चंद शब्दो मे ज़िन्दगी का सार कह दिया…………………बहुत सुन्दर अनुवाद किया है……………आभार्।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह शास्त्री जी उत्तम अभिव्यक्ति का अनुपम अनुवाद | जय हो|

    उत्तर देंहटाएं
  4. यही विडम्बना है, यदि सब है तो दुख क्यों है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सधा हुआ और सुन्दर अनुवाद किया है आपने,बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  6. चंद शब्दो मे ज़िन्दगी का सार कह दिया| बहुत सुन्दर|धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (11-4-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक चोरी के मामले की सूचना :- दीप्ति नवाल जैसी उम्दा अदाकारा और रचनाकार की अनेको कविताएं कुछ बेहया और बेशर्म लोगों ने खुले आम चोरी की हैं। इनमे एक महाकवि चोर शिरोमणी हैं शेखर सुमन । दीप्ति नवाल की यह कविता यहां उनके ब्लाग पर देखिये और इसी कविता को महाकवि चोर शिरोमणी शेखर सुमन ने अपनी बताते हुये वटवृक्ष ब्लाग पर हुबहू छपवाया है और बेशर्मी की हद देखिये कि वहीं पर चोर शिरोमणी शेखर सुमन ने टिप्पणी करके पाठकों और वटवृक्ष ब्लाग मालिकों का आभार माना है. इसी कविता के साथ कवि के रूप में उनका परिचय भी छपा है. इस तरह दूसरों की रचनाओं को उठाकर अपने नाम से छपवाना क्या मानसिक दिवालिये पन और दूसरों को बेवकूफ़ समझने के अलावा क्या है? सजग पाठक जानता है कि किसकी क्या औकात है और रचना कहां से मारी गई है? क्या इस महा चोर कवि की लानत मलामत ब्लाग जगत करेगा? या यूं ही वाहवाही करके और चोरीयां करवाने के लिये उत्साहित करेगा?

    उत्तर देंहटाएं
  9. अनुवाद बहुत ही अच्छा है |नया पढ़ने को मिला बधाई
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  10. कमल की कविता है ...और बहुत बढ़िया अनुवाद ....!!
    बहुत बहुत धन्यवाद शास्त्री जी इस नेक कार्य के लिए .

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails