"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 9 अप्रैल 2011

"लैपटॉप जीवन्त हो गया" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


एक साल के बाद हमारा,
लैपटॉप जीवन्त हो गया।
एकाकीपन की घड़ियों का,
अब लगता है अन्त हो गया।।
यह प्यारा सा संगी-साथी,
मेरा साथ निभाता है।
नये-नये चिट्ठाकारों से,
खुश होकर मिलवाता है।।
कलियुग की जीवन धारा में,
यह ज्ञानी और सन्त हो गया।
एकाकीपन की घड़ियों का,
अब लगता है अन्त हो गया।।
बहुत दिनों बीमार रहा यह,
दिल्ली जाकर स्वस्थ हो गया।
नई कुंजियों को पा करके,
पहले जैसा मस्त हो गया।
संजीवनी चबा कर फिर से,
बलशाली हनुमन्त हो गया।
एकाकीपन की घड़ियों का,
अब लगता है अन्त हो गया।।
बहुत दिनों के बाद तुम्हारा,
चित्र आज मैं खीँच रहा हूँ।
ब्लॉगिंग की केसर क्यारी को,
मित्र तुम्हीं से सींच रहा हूँ।
तुमको वापिस पा जाने से,
पतझड़ आज बसन्त हो गया।
एकाकीपन की घड़ियों का,
अब लगता है अन्त हो गया।।

16 टिप्‍पणियां:

  1. लैपटॉप के जीवंत होने की बहुत बहुत बधाई ...सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बहुत बधाई हो आपको। बहुत काम आता है लैपटॉप।

    उत्तर देंहटाएं
  3. दिल्ली जाकर तो सबकी कुंजी खराब होते ही देखी है। जीवंतों को भी मुर्दानगी का जामा पहना देती है दिल्ली। सुखद अहसास है कि आपका जीवंत यंत्र दिल्ली जाकर सही हो आया। यंत्र था सो सही हो गया, अब इसकी जीवंतता आपने बना दी। अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. लैपटॉप जिंदा हो गया , शब्द जी उठे , सन्नाटा भर उठा ... कुछ रिश्ते मिल गए .... फिर से ज़िन्दगी सरस हो गई

    उत्तर देंहटाएं
  5. लैपटॉप के जीवंत होने की बहुत बहुत बधाई ...सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपका 'लेप','टाप' पर रहे यही हमारी मनोकामना है -- नए जनम की शुभकामनाए ! बहुत सुन्दर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  7. कलियुग की जीवन धारा में,
    यह ज्ञानी और सन्त हो गया।
    एकाकीपन की घड़ियों का,
    अब लगता है अन्त हो गया।।
    लेपटाप पर भी गीत आपकी यही तो प्रतिभा है:
    गीत बहुत ही दमदार है बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. laptop theek ho gaya janker,padhker dil bhi khush ho gaya...hahaha...really padhkar muskurahat aa gai.bahut rochak rachna.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही खूबसूरत रचना... वाकई में कभी ये निर्जीव चीजों से भी तो कितना लगाव हो जाता है... आपको बधाई... :))

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails