"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 12 अप्रैल 2011

"दो कुण्डलियाँ" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


 
(१)
जालजगत है देवता, कम्प्यूटर भगवान।
शोभा है यह मेज की, ऑफिस की है शान।।
ऑफिस की है शान, सजाता अनुबन्धों को।
दूर देश में बहुत, बढ़ाता सम्बन्धों को।।
कह मयंक कविराय, अनागत ही आगत है।
सबसे ज्ञानी अब दुनिया में जालजगत है।।
(२)
कम्प्यूटर अब बन गया, जीवन का आधार।
इसके बिन चलता नही, चिट्ठों का व्यापार।।
चिट्ठों का व्यापार, लेख-रचना का आँगन।
चिट्ठी-पत्री, बातचीत का है यह साधन।।
कह मयंक कविराय, यही है उन्नत ट्यूटर।
खाता-बही हटाय, लगाओ अब कम्प्यूटर।।

26 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर कुण्डलियाँ…………शानदार प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  2. शास्‍त्री जी एक धृष्‍टता कर रही हूँ, जरा इस पंक्ति को देखें - "दूर देश में बहुत, बढ़ाता सम्बन्धों को" यह लय में नहीं है। वैसे बहुत ही बढिया कुण्डियां हैं। बस इस पंक्ति को दोबारा लिखेंगे तो आनन्‍द दौ्गुणा हो जाएगा।

    उत्तर देंहटाएं
  3. @ajit gupta Ji
    "दूर देश में बहुत, बढ़ाता सम्बन्धों को"
    यह लय में भी है और मीटर पर भी बिल्कुल फिट है!
    --
    टिप्पणी के लिए आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  4. मीटर में तो है, यह तो मैंने देख लिया था लेकिन कहीं कुछ अटकता है इसलिए मैंने लिखा था। फिर आप जैसा उचित समझे।

    उत्तर देंहटाएं
  5. antar jal ka aisa hi fail raha hai jal,
    jo isme nahi fansta vah rah jata kangal.
    bahut sundar prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच है आज बिना कंप्यूटर के काम चलना

    Coral

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी नजर और दोहे कविता का अवतरण.

    कहीं भी, कभी भी.

    खजाने में एक मोती और...

    उत्तर देंहटाएं
  8. आज के दौर के लिए एकदम सच्ची कुंडलियाँ.

    उत्तर देंहटाएं
  9. कम्प्यूटर जी के बिना, अब कोई भी काम सम्भव नहीं.. बढ़िया, बढ़िया और बहुत बढ़िया..

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर शानदार कुण्डलियाँ|धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  11. aaj ke vikas sheel vaqt ko ujaagar karti behtereen kundiliyan.pahle laptop ab computer aage na jaane aur kitne new madhyam aayenge jinpar aur kundliyon ki rachna karni padegi aapko.bahut hi rochak prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर कुण्डलियाँ...
    मयंक जी विकास का आनंद उठाइए, और मेज की शोभा कम्प्यूटर से बढाइये|
    वाह वाह .....

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत अच्छी कुण्डलियाँ ..नए ज़माने की .

    उत्तर देंहटाएं
  14. कम्प्यूटर अब बन गया, जीवन का आधार।
    इसके बिन चलता नही, चिट्ठों का व्यापार।।
    चिट्ठों का व्यापार, लेख-रचना का आँगन।
    चिट्ठी-पत्री, बातचीत का है यह साधन।।
    कह मयंक कविराय, यही है उन्नत ट्यूटर।
    खाता-बही हटाय, लगाओ अब कम्प्यूटर।।...

    Wonderful 'Kundaliyan' !

    Computer is so essential now a days.

    It is more or less a lifeline for me.

    .

    .

    उत्तर देंहटाएं
  15. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  16. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  17. जालजगत आनन्द है,लेकिन रहे सतर्क,
    फ़स गये जो जाल मे,चले न कोइ तर्क.
    मन मे रहेगा गम,ब्लाग तो करना होगा,
    चले न कोइ तर्क भुगतना ही फिर होगा.

    उत्तर देंहटाएं
  18. बढ़िया कुंडलियाँ है सर... ज़माने के साथ लिपटी हुयी...
    मज़ा आ गया...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails