"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 14 अप्रैल 2011

"झूम-झूमकर मच्छर आते" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

झूम-झूमकर मच्छर आते।
कानों में गुञ्जार सुनाते।।
नाम ईश का जपते-जपते।
सुबह-शाम को खूब निकलते।।

बैठा एक हमारे सिर पर।
खून चूसता है जी भर कर।।
नहीं यह बिल्कुल भी डरता।
लाल रक्त से टंकी भरता।।

कैसे मीठी निंदिया आये?
मक्खी-मच्छर नहीं सतायें।

मच्छरदानी को अपनाओ।
चैन-अमन से सोते जाओ।।

14 टिप्‍पणियां:

  1. bimaariyon se bachne ka uppay bachchon ko samjhana bahut jaroori hai.machchardaani ki ahamiyat bahut saral tareeke se samjhaai hai aapne.achchi kavita hai.

    उत्तर देंहटाएं
  2. मच्छर महाराज की जय हो…………बहुत सुन्दर लिखा है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. aadarniy sir
    bahut -bahut hi achhi lagi machhar ji ki nirali mahamaya.aur aapki post bhi bilkul parfect lagi .
    majedaar
    hardik abhnandan
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  4. aadarniy sir
    bahut -bahut hi achhi lagi machhar ji ki nirali mahamaya.aur aapki post bhi bilkul parfect lagi .
    majedaar
    hardik abhnandan
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  5. मच्छर महाराज कृपा करें बस :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. पहाड़ी इलाकों में तो मच्छरदानी मजबूरी सी हो गई है. हमारे हरियाणा, पंजाब और दिल्ली में अभी मच्छर कम हैं और छोटे हैं।

    मेरा ब्लॉग भी देखें
    भले को भला कहना भी पाप

    उत्तर देंहटाएं
  7. सर पर बैठा यह मच्‍छर है या कोई हैलिकोप्‍टर? मच्‍छरदानी का प्रचार खूब बढिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मच्छरदानी सर्वोत्तम other chemical option,s are injurious to health.

    उत्तर देंहटाएं
  9. जय हो गूगल बाबा की!
    यह कमेंट कौन लील गया?
    --
    श्रीमती रजनी माहर ने आपकी पोस्ट " "झूम-झूमकर मच्छर आते" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मय... " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

    मच्छरदानी सर्वोत्तम other chemical option,s are injurious to health.

    उत्तर देंहटाएं
  10. गुरु जी
    मच्छरदानी का सही प्रचार हो गया आपकी इस कविता के माध्यम से!
    नेता और मच्छर में कोई ज्यादा फर्क नहीं है, बस अच्छी बात ये है की मच्छर काटने से पहले ये नहीं देखता की वो सामान्य मनुष्य को काट रहा है या नेता को!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails