"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 3 अप्रैल 2011

"जन का तन्त्र या तन्त्र का जन" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

देहरादून में जीत का जश्न मनाने पर पाबन्दी!
--
धारा 144 लगाई गयी!
--
जश्न मनाते लोगों और पत्रकारों पर 
बर्बरतापूर्ण लाठी चार्ज!
--
क्या देहरादून पाकिस्तान 
या श्रीलंका की राजधानी है?
--
कश्मीर से कन्यकुमारी तक 
कहीं भी जीत का जश्न मनाने पर 
पाबन्दी नहीं।
फिर
देहरादून में ऐसा व्यवहार क्यों?
खुशियों का इजहार करने पर?
क्यों बरसाई गई लोगों पर लाठियाँ? 
 देहरादून पुलिस जवाब दो!
क्या देहरादून भारत का हिस्सा नहीं?
जम्मू-कश्मीर में भी खुशिया मनाने पर छूट!
फिर किसलिए लगाई गई धारा-144?
--
इस बर्बरतापूर्ण कृत्य की 
जितनी निन्दा की जाए कम होगी!
--

15 टिप्‍पणियां:

  1. हम भी इस बर्बरतापूर्ण कृत्य की घोर निंदा करते है !

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये तो हद है।
    सारा देश इस ऐतिहासिक खुशी के अवसर पर झूम रहा है। और इसी देश के एक हिस्से में ऐसी बर्बरतापूर्ण कार्र्वाई। इसकी निंदा की जानी चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  3. यदि सच ही जश्न मनाने पर पाबंदी है तो निंदनीय है ...जश्न के साथ कुछ और कुकृत्य किया जा रहा हो तो रोकना ज़रूरी भी है

    उत्तर देंहटाएं
  4. संगीता जी की बात दोहराता हूँ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. सारा देश इस ऐतिहासिक खुशी के अवसर पर झूम रहा है। और इसी देश के एक हिस्से में ऐसी बर्बरतापूर्ण कार्र्वाई। इसकी निंदा की जानी चाहिए। .जश्न के साथ कुछ और कुकृत्य किया जा रहा हो तो रोकना ज़रूरी भी है

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रसन्नता व्यक्त करने का अधिकार और समुचित व्यवस्था भी हो।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अरे!! ऐसा क्यों किया गया? क्या वहां किसी दुर्घटना की आशंका थी? इस कार्रवाई की तो निंदा की ही जानी चाहिए.

    उत्तर देंहटाएं
  8. bahut khed hai ki jahaan main rahti hoon vahan yesa hua.per har sikke ka doosra pahloo bhi hota hai.kuch anhoni na ho is liye yesa hua.humne bhi to bahut shaalinta se celebrate kiya hai.

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. main Arun chandra rai aur Sangeeta swaroop ji ki baat se sahmat hoon.

    उत्तर देंहटाएं
  11. कोई कारण भी तो रहा होगा। धारा 144 ऐसे ही तो नहीं लगा दी जाती?

    उत्तर देंहटाएं
  12. ये तो बर्बरता की हद हो गयी…………और वो भी इस अवसर पर ……………जब पूरा देश खुशी मे सराबोर है। सबको मिलकर निन्दा करनी चाहिये और ऐसे लोगो के खिलाफ़ एक्शन लेना चाहिये।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails