"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 2 अगस्त 2011

“आजादी की वर्षगाँठ तो एक साल में आती है” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)




चौमासे में श्याम घटा जब आसमान पर छाती है।
आजादी के उत्सव की वो मुझको याद दिलाती है।।

देख फुहारों को उगते हैं, मेरे अन्तस में अक्षर,
इनसे ही कुछ शब्द बनाकर तुकबन्दी हो जाती है।

खुली हवा में साँस ले रहे हम जिनके बलिदानों से,
उन वीरों की गौरवगाथा, मन में जोश जगाती है।

लाठी-गोली खाकर, कारावास जिन्होंने झेला था,
वो पुख़्ता बुनियाद हमारी आजादी की थाती है।

खोल पुरानी पोथी-पत्री, भारत का इतिहास पढ़ो,
यातनाओं के मंजर पढ़कर, छाती फटती जाती है।

आओ अमर शहीदों का, हम प्रतिदिन वन्दन-नमन करें,
आजादी की वर्षगाँठ तो, एक साल में आती है।




19 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही बढ़िया गीत बहुत ही अच्छा लगा... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. desh par mitne vaalon ko aapka yeh geet achcha tohfa hai.bahut achcha likha hai.aabhar.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आओ अमर शहीदों का, हम प्रतिदिन वन्दन-नमन करें ||

    सुन्दर प्रस्तुति ||
    सामायिक प्रस्तुति ||

    उत्तर देंहटाएं
  4. आदरणीय शास्त्री जी
    सादर प्रणाम !
    हर अवसर के लिए आपके ख़ज़ाने में सरस्वती माता ने रचनाएं दी हुई है … क्या बात है आपकी !
    आओ अमर शहीदों का, हम प्रतिदिन वन्दन-नमन करें,
    आजादी की वर्षगांठ तो, एक साल में आती है।

    जय हो !

    हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  5. खुली हवा में साँस ले रहे हम जिनके बलिदानों से,
    उन वीरों की गौरवगाथा, मन में जोश जगाती है।
    बहुत सुंदर शास्त्री जी। यह तो जोश भर देने वाली रचना है। इसे तो स्कूलों में गवाना चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  6. वीरों का सम्मान तो रोज ही होना चाहिए, उनके शहीद होने से पहले भी , बाद भी !
    ओजस्वी विचार , बच्चे -बच्चे में अलख जगाएं ...
    मनोजजी से सहमत हूँ !

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर गीत! बढ़िया लगा!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर और सटीक लिखा है ………शहीदो को हमारा भी शत शत नमन्।

    उत्तर देंहटाएं
  9. ओजपूर्ण कविता.. स्वतंत्रता दिवस की शुभकामना...

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सामयिक सटीक और उम्दा.
    शहीदो को नमन्.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही बढ़िया गीत है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुंदर गीत ...देश प्रेम से अभिभूत ...
    जय हिंद ...जय भारत

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत अच्छी रचना .शहीदों को शत -शत नमन

    उत्तर देंहटाएं
  14. वीरों के प्रति सच्ची श्रधांजलि है...उनकी याद जेहन में बसाये रखना...दिन-प्रतिदिन वंदन...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails