"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 14 अगस्त 2011

"गीत-...बन्दी है आजादी अपनी,." (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

आज स्वाधीनता की 65वीं वर्षगाँठ पर
अपने दो गीत प्रस्तुत कर रहा हूँ!
पहला गीत अपने प्यारे वतन को समर्पित है!
मेरे पति (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक") ने
स्वाधीनता-दिवस पर यह
गीत लिखा था।
इसे मैं अपनी आवाज में
प्रस्तुत कर रही हूँ-
श्रीमती अमर भारती
मेरे प्यारे वतन, जग से न्यारे वतन।
मेरे प्यारे वतन, ऐ दुलारे वतन।।

अपने पावों को रुकने न दूँगा कहीं,
मैं तिरंगे को झुकने न दूँगा कहीं,
तुझपे कुर्बान कर दूँगा मैं जानो तन।
मेरे प्यारे वतन, ऐ दुलारे वतन।।

जन्म पाया यहाँ, अन्न खाया यहाँ,
सुर सजाया यहाँ, गीत गाया यहाँ,
नेक-नीयत से जल से किया आचमन।
मेरे प्यारे वतन, ऐ दुलारे वतन।।

तेरी गोदी में पल कर बड़ा मैं हुआ,
तेरी माटी में चल कर खड़ा मैं हुआ,
मैं तो इक फूल हूँ तू है मेरा चमन।
मेरे प्यारे वतन, ऐ दुलारे वतन।।

स्वप्न स्वाधीनता का सजाये हुए,
लाखों बलिदान माता के जाये हुए,
कोटि-कोटि हैं उनको हमारे नमन।
मेरे प्यारे वतन, ऐ दुलारे वतन।।

जश्ने आजादी आती रहे हर बरस,
कौम खुशियाँ मनाती रहे हर बरस,
देश-दुनिया में हो बस अमन ही अमन।
मेरे प्यारे वतन, ऐ दुलारे वतन।।
और यह दूसरा गीत हमारी वर्तमान स्थिति को
बयान कर रहा है!
15%20Augustबन्दी है आजादी अपनी, छल के कारागारों में।
मैला-पंक समाया है, निर्मल नदियों की धारों में।।

नीचे से लेकर ऊपर तक, भ्रष्ट-आवरण चढ़ा हुआ,
झूठे, बे-ईमानों से है, सत्य-आचरण डरा हुआ,
दाल और चीनी भरे पड़े हैं, तहखानों-भण्डारों में।
मैला-पंक समाया है, निर्मल नदियों की धारों में।।

नेताओं की चीनी मिल हैं, नेता ही व्यापारी हैं,
खेतीहर-मजदूरों का, लुटना उनकी लाचारी हैं,
डाकू, चोर, लुटेरे बैठे, संसद और सरकारों में।
मैला-पंक समाया है, निर्मल नदियों की धारों में।।

आजादी पूँजीपतियों को, आजादी सामन्तवाद को,
आजादी ऊँची-खटियों को, आजादी आतंकवाद को,
निर्धन नारों में बिकता है, गली और बाजारों में।
मैला-पंक समाया है, निर्मल नदियों की धारों में।।
(चित्र गूगल सर्च से साभार)

32 टिप्‍पणियां:

  1. दोनों ही अति सुंदर गीत, स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  2. DR.JI DONO GEET DIL KI PIDA VA DESH PREM KO DARSHANE WALE HAIN .BADHAYI

    उत्तर देंहटाएं
  3. टेढ़ा है...पर मेरा है...

    आखों में कुछ आंसू हैं कुछ सपने हैं...आंसू और सपने दोनों ही अपने है...दिल दुखा है लेकिन टूटा तो नहीं है...उम्मीद का दमन अभी छूटा तो नहीं है...वन्देमातरम...

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 15-08-2011 को चर्चा मंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर गीत...


    स्वतंत्रता दिवस की बधाई एवं हार्दिक अभिनन्दन!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. दोनों गीत मनभावन हैं ...
    जितनी भी है स्वतन्त्रता , उसकी बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  7. दोनों ही गीत यौमे आज़ादी के उदगार और आकांक्षाएं टूटने ,मोह भंग ,जोशो खरोश उत्प्रेरण सभी कुछ एक साथ समेटें हैं ,राष्ट्र प्रेम का जीवंत चित्र इस पोस्ट में ,सांगीतिक प्रस्तुति खूबसूरत .
    http://veerubhai1947.blogspot.com/

    रविवार, १४ अगस्त २०११
    संविधान जिन्होनें पढ़ा है .....


    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    Sunday, August 14, 2011
    चिट्ठी आई है ! अन्ना जी की PM के नाम !

    उत्तर देंहटाएं
  8. दोनों ही गीत यौमे आज़ादी के उदगार और आकांक्षाएं टूटने ,मोह भंग ,जोशो खरोश उत्प्रेरण सभी कुछ एक साथ समेटें हैं ,राष्ट्र प्रेम का जीवंत चित्र इस पोस्ट में ,सांगीतिक प्रस्तुति खूबसूरत .
    http://veerubhai1947.blogspot.com/

    रविवार, १४ अगस्त २०११
    संविधान जिन्होनें पढ़ा है .....


    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    Sunday, August 14, 2011
    चिट्ठी आई है ! अन्ना जी की PM के नाम !

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्‍छा चित्रण किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!
    HAPPY INDEPENDENCE DAY!

    उत्तर देंहटाएं
  11. स्वाधीनता दिवस की हार्दिक मंगलकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुन्दर गीत.
    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  13. आदरणीय शास्त्री जी स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई - अमर भारती जी को सुनवाने के लिए आभार

    "निर्धन नारों में बिकता है, गली और बाजारों में"

    उत्तर देंहटाएं
  14. स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं और ढेर सारी बधाईयां

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुन्दर गीत ..
    जायज चिंता/तंज अभिव्यक्त है
    अमर भारती जी का स्वर लाजवाब

    उत्तर देंहटाएं
  16. स्वतंत्रता-दिवस की मंगल-कामनाएं॥
    जय भारत!! जय जवान! जय किसान!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. स्वतंत्रता-दिवस की मंगल-कामनाएं॥
    जय भारत!! जय जवान! जय किसान!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. यही कशमकश हर भारतवासी के दिल को मथती रहती है।

    उत्तर देंहटाएं
  19. ek aam aadmi ki soch aur desh ke naitik patan ko kahti dono rachnaye safal chitran kar rahi hai aaj ke samay ka.

    उत्तर देंहटाएं
  20. दोनों ही लाजवाब गीत.....

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  21. सुन्दर अभिव्यक्ति के साथ भावपूर्ण कविता लिखा है आपने! शानदार प्रस्तुती!
    आपको एवं आपके परिवार को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  22. दोनों ही सुंदर गीत...
    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  23. देश हमारा है ,यह कहने को अभी आजादी मिली है , " हम देश के हैं,कहने की नैतिक आजादी मिलनी बाकी है " आगे आगे आना ही होगा ,नया आत्मबल और सहस लेकर ......./
    अन्यथा ये चोर ....कफ़न बेच देंगे .../
    बहुत बहुत आभार अवं शुभकामनायें /

    उत्तर देंहटाएं
  24. Roopchandra ji,
    dono geet bahut hin sundar hai. bhabhi ji ki aawaz mein bahut achha laga sun.na, aap dono ko bahut badhai aur swatantrata diwas ki shubhkaamnaayen.

    उत्तर देंहटाएं
  25. उत्कृष्ट रचनाएं हैं सर...
    राष्ट्र पर्व की सादर बधाईयाँ....

    उत्तर देंहटाएं
  26. ये देश जैसा भी है ....पर मेरा है ....सिर्फ इसी देश में हर प्रकार कि विविधा मिलेगी ..जो ओर किसी देश में नहीं है ...
    --



    भाई जी ...आपके ब्लॉग और किसी भी अन्य ब्लॉग पर मै हर वक़्त टिप्पिनी देती रहती हूँ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  27. आपकी दोनों रचनाएँ एक परिपक्व कवि की राष्ट्र के प्रति समर्पित रचनाएँ हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  28. ♥ लाजवाब गीत ♥

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails