"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 1 सितंबर 2011

"कॉफी" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मित्रों!
परसों चाय पर एक रचना लिखी थी।
उस पर अपनी टिप्पणी में भाई अरुण चन्द्र राय ने
अपनी फरमाइश रख दी कि अब कॉफी पर भी
एक रचना लिख दीजिए।
उन्हीं की माँग पर पेश है कॉफी की यह रचना!
आप भी यदि कोई नया विषय सुझाएँ तो आभारी रहूँगा!
क्षणिक शक्ति को देने वाली।
कॉफी की तासीर निराली।।

जब तन में आलस जगता हो,
नहीं काम में मन लगता हो,
थर्मस से उडेलकर कप में,
पीना इसकी एक प्याली।
कॉफी की तासीर निराली।।

पिकनिक में हों या दफ्तर में,
बिस्तर में हों या हों घर में,
कॉफी की चुस्की ले लेना,
जब भी खुद को पाओ खाली।
कॉफी की तासीर निराली।।

सुख-वैभव के अलग ढंग हैं,
काजू और बादाम संग हैं,
इस कॉफी के एक दौर से,
सौदे होते हैं बलशाली।
कॉफी की तासीर निराली।।

मन्त्री जी हों या व्यापारी,
बड़े-बड़े अफसर सरकारी,
सबको कॉफी लगती प्यारी,
कुछ पीते हैं बिना दूध की,
जो होती है काली-काली।
कॉफी की तासीर निराली।।


35 टिप्‍पणियां:

  1. अच्छा लगा कि टिप्पणी स्वरुप मेरी बात को आपने इतनी गंभीरता से लिया .. आपकी कविता को पूरा करते हुए कुछ पंक्तिया...

    कहते हैं एक काफी पर
    करते लोग खज़ाना खाली
    अपने अपने होते हैं मकसद
    काफी रहती वही विचारी
    काफी की तासीर निराली

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह ... बताये कब आ जाएँ काफी पीने ??

    उत्तर देंहटाएं
  3. हां दादा

    हो इच्छा गर पीने की बलशाली


    आ जाईये तैय्यार है काफ़ी की प्याली

    ये लाईन भी जोड़ना था :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया .मज़ा आ गया. अब कुछ कबूतर पे कहें मुझे तो पक्षी अधिक पसंद नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह! क्या बात है! बहुत ही बढ़िया, मज़ेदार और शानदार लगा!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया सर।
    -------------
    कल 2/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  7. शास्त्री जी नमस्कार ....
    आप की कॉफी की प्याली ,
    सब को कर गई मतवाली
    कॉफी इन को पिलवाओ
    बाकी का माल हमें खिलाओ ...हा हा हा !

    उत्तर देंहटाएं
  8. वक्रतुंड महाकाय कोटिसूर्यसमप्रभ ।
    निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा ॥
    "आप सभी को गणेश-चतुर्थी की बहुत बहुत शुभकामनाएं "

    उत्तर देंहटाएं
  9. वक्रतुंड महाकाय कोटिसूर्यसमप्रभ ।
    निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा ॥
    "आप को गणेश-चतुर्थी की बहुत बहुत शुभकामनाएं "

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह क्या बात है शाश्त्रीजी आपकी लेखनि को नमन करती हूँ/काफी पीने जितना मजा आ गया आपकी रचना पढने में /बहुत बधाई आपको /

    उत्तर देंहटाएं
  11. vyast hone ke karan der se padhi ajeeb ittefak hai mere haath me kafi ka mug hai aur kafi par kavita padh rahi hoon.bahut bahut achchi rachna swad doguna ho gaya.

    उत्तर देंहटाएं
  12. कॉफी पर तो आपने बहुत सुन्दर लिखा वैसे बुरा न माने तो मैं तो कहूँगा कि शराब पर भी आप बहुत सुन्दर लिख सकते हैं। इस विषय पर तमाम अज़ीम शाइरों और कवियों के पोत्थनें भरे पड़े हैं, कवि श्रेष्ठ बच्चन जी ने तो पूरी मधुशाला ही लिख डाली। हम आपके क़लम का जादू देखना चाहेंगे

    उत्तर देंहटाएं
  13. ठीक है गाफ़िल साहब।
    कल शराब पर भी लिख दूँगा।
    गणशोत्सव की शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. ईद की सिवैन्याँ, तीज का प्रसाद |
    गजानन चतुर्थी, हमारी फ़रियाद ||
    आइये, घूम जाइए ||

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  15. शिखा कौशिक जी!
    कल ग़ाफिल साहब की माँग पर, शराब पर और परसों आपकी माँग पर भारतीय नारी पर भी लिखूँगा।
    --
    आप लोग बताते रहिए नये-नये विषय!
    आभारी रहूँगा आप सबका!
    --
    गणेशोत्सव की शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  16. एक चुस्की मेरी ओर से भी.......

    साथ यदि कोई संगी सखा हो
    काफी संग नमकीन रखा हो.
    याद करें बचपन की शरारत
    और बजायें जम कर ताली.
    काफी की तासीर निराली.

    उत्तर देंहटाएं
  17. कॉफी पर कविता निराली ... अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  18. शुभ प्रभात सर,
    एक काफी का मग हाथों में है और एक सामने स्क्रीन में... सच कहूं स्क्रीन वाली काफी की बात ही निराली है...
    सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  19. काफी पर कविता पढ़ डाली,
    "काफी की तासीर निराली"
    कलम आपकी देखी भाली,
    वाह वाह कविता मतवाली.

    उत्तर देंहटाएं
  20. SHASTRI JI .......
    coffee ke sang bujeya too mast
    keya jodi banaya
    pi kar too mari needh udh gae.
    bahut khub aap ka.....
    may aab aau aap ke dar pe coff pine.......
    aaye keya?
    aap ko ganesh cathurathi ka subh kamanaye............

    उत्तर देंहटाएं
  21. आप को श्रीगणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  22. bahut sundar abhivyakti.
    JALD HI HUM AAYENGE AAPKE PASS IS PYARI KAFI KA LUTF UTHANE KE LIYE ....badhai....

    उत्तर देंहटाएं
  23. चाय के बाद कॉफ़ी भी ...
    बढ़िया है!

    उत्तर देंहटाएं
  24. शास्त्री जी कोटि कोटि अभिनन्दन !! बहुत ही चुटीली ओर मनमोहन अभिव्यक्ति के लिए सुबह कामनाएं !!!
    काफी की तासीर ...काफी पीनो को ललचा रही है ....
    सादर !!!

    उत्तर देंहटाएं
  25. ये तो आपके लिये चुटकी का काम है…………सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  26. इतने सुन्दर गीत ने कड़वी काफी को भी मीठा बना दिया !
    किसी भी विषय पर भावों को प्रभाव पूर्ण ढंग से शब्दों में ढाल देना आपकी विशेषता है !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails