"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 28 सितंबर 2011

"दया करो हे दुर्गा माता" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

तुमको सच्चे मन से ध्याता।
दया करो हे दुर्गा माता।।
व्रत-पूजन में दीप-धूप हैं,
नवदुर्गा के नवम् रूप हैं,
मैं देवी का हूँ उद् गाता।
दया करो हे दुर्गा माता।।
प्रथम दिवस पर शैलवासिनी,
शैलपुत्री हैं दुख विनाशिनी,
सन्तति का माता से नाता।
दया करो हे दुर्गा माता।।
द्वितीय दिवस पर ब्रह्मचारिणी,
देवी तुम हो मंगलकारिणी,
निर्मल रूप आपका भाता।
दया करो हे दुर्गा माता।।
बनी चन्द्रघंटा तीजे दिन,
मन्दिर में रहती हो पल-छिन,
सुख-वैभव तुमसे है आता।
दया करो हे दुर्गा माता।।
कूष्माण्डा रूप तुम्हारा,
भक्तों को लगता है प्यारा,
पूजा से संकट मिट जाता।
दया करो हे दुर्गा माता।।
पंचम दिन में स्कन्दमाता,
मोक्षद्वार खोलो जगमाता,
भव-बन्धन को काटो माता।
दया करो हे दुर्गा माता।।
कात्यायनी बसी जन-जन में,
आशा चक्र जगाओ मन में,
भजन आपका मैं हूँ गाता।
दया करो हे दुर्गा माता।।
कालरात्रि की शक्ति असीमित,
ध्यान लगाता तेरा नियमित,
तव चरणों में शीश नवाता।
दया करो हे दुर्गा माता।।
महागौरी का है आराधन,
कर देता सबका निर्मल मन,
जयकारे को रोज लगाता।
दया करो हे दुर्गा माता।।
सिद्धिदात्री हो तुम कल्याणी
सबको दो कल्याणी-वाणी।
मैं बालक हूँ तुम हो माता।
दया करो हे दुर्गा माता।।

29 टिप्‍पणियां:

  1. नवरात्रों की हार्दिक शुभकामना... गीत बहुत अच्छा है और भक्तिमय कर रहा है.. दुर्गा के विभिन्न रूपों का सुन्दर चित्रण है इसमें...

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप का जबाब नहीं
    इतनी सुन्दर माँ कि छबी के साथ कविता भी सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  3. माँ के नौ रुपो का बहुत ही सुन्दर चित्रण किया है।माता रानी आपकी सभी मनोकामनाये पूर्ण करें और अपनी भक्ति और शक्ति से आपके ह्रदय मे अपनी ज्योति जगायें…………सबके लिये नवरात्रि शुभ हो॥

    उत्तर देंहटाएं
  4. मयंक जी नमस्कार्। बहुत सुन्दर शब्दो मे माँ के सारे रुपो की आरती की है। देखे मेरे भी ब्लाग पर माँ की याचना।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर प्रस्तुति ||
    माँ की कृपा बनी रहे ||

    http://dcgpthravikar.blogspot.com/2011/09/blog-post_26.html

    उत्तर देंहटाएं





  6. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  7. नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ सर!

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  8. नवरात्रि की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर कविता के साथ माता के नौ ही रुपों का अद्भुत चित्रण बहुत मनमोहक तरीके से आपने प्रस्तुत किया है ।
    नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर रचना, हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम

    उत्तर देंहटाएं
  11. नवरात्रि की शुभकामनायें। सुंदर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुंदर प्रस्‍तुति...

    नवरात्रि की शुभकामनाएं....

    उत्तर देंहटाएं
  13. माँ सबका कल्याण करे
    नवरात्र की बहुत शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर!
    मुझ पर भी दया करो माता!
    आप को नवरात्री की हार्दिक शुभकामनायें!
    माँ आपकी हर मनोकामना पूर्ण करें!

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ख़ूबसूरत रचना लिखा है आपने! हर एक शब्द लाजवाब है! शानदार प्रस्तुती!
    आपको एवं आपके परिवार को नवरात्रि पर्व की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत अच्छी शुरुआत हुई है नवरात्र की, आपके साथ।
    अभी तो और ऐसे अवसर आने हैं इन नौ दिनों में।
    जय माता दी।

    उत्तर देंहटाएं
  17. माँ दुर्गा के नवों रूप की श्रद्धापूर्ण प्रस्तुति...
    देवी माँ को हार्दिक नमन|
    आपको सपरिवार नवरात्रि पर्व की बधाइयाँ एवं शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  18. माँ के विभिन्न रूपों का एवं बहुत सुंदर भक्ति गीत का चित्रण है आपकी रचना में /बहुत बधाई आपको /हमेशा की तरह अनुपम रचना/आपको व आपके परिवार को नवरात्री की बहुत बहुत शुभकामनायें /माता रानी आपकी saari मनोकामनायें पूर्ण करे /

    उत्तर देंहटाएं
  19. नवरात्री की ढ़ेरों शुभकामनाएँ..

    उत्तर देंहटाएं
  20. माता दुर्गा के विभिन्न अवतारों का अद्भुत सचित्र वर्णन किया है !बहुत प्रशंसनीय ,अति सुन्दर वर्णन !नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  21. शास्त्री जी ..नवरात्रों की शुभ बेला पर आपको ढेरों शुभ कामनाएं ...अति भक्ति भावमय गीतिका
    माँ दुर्गा जी कि पावन छवि के साथ मन अति आनंदमय हो गया ..
    सर्व मंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके
    शरण्ये त्रयेम्बके गौरी नारायणी नमस्तुते !!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. नवदुर्गा के नवरूप का स्तवन,श्रद्धा विश्वास का अलख जगाता। मां दुर्गा के चरणों मे यह सेवक, बारंबार है शीश झुकाता॥ स्वीकार हो शास्त्री जी को अभिनंदन, सीखने को सब कुछ मिल जाता॥ हे मां जगत जननी "सर्वाबाधा प्रशमनं त्रैलोकस्याखिलेश्वरी। एवमेव त्वयाकार्यमस्मदवैरिविनाशनम्॥ मां भगवती जगत का कल्याण करे। नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  23. अदभुत ....नवरात्रि की शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  24. आपको सपरिवार शुभ दिनों की मंगलकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  25. नौ दुर्गा के नौ रूप का दर्शन वर्णन
    पावन हो गया पाठकों का अंतर्मन.


    नव-रात्रि पर्व की शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  26. I just wanted to add a comment to mention thanks for your post. This post is really interesting and quite helpful for us. Keep sharing.
    Mata rani dress

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails