"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 17 सितंबर 2011

"राष्ट्रसंघ में कब अपनी भाषा का भाग जगेगा?" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

मित्रों!
आज शुभसूचना यह है कि
गूगल ने मेरा पासवर्ड वापिस कर दिया है!
धन्यवाद गूगल बाबा!
आया मास सितम्बर तेरह-चौदह दिन भी बीते।
हिन्दी-हिन्दी रटा, मगर गागर अब तक हैं रीते।।

शरमा गये श्राद्ध भी, हमने इतनी श्रद्धा दिखलाई।
साठ वर्ष से राज-काज में हिन्दी नही समाई।।

रूस, चीन, जापान सबल हैं, अपनी ही भाषा से।
देख रही है हिन्दी, अपनों को कितनी आशा से।।

कब आयेगा सुप्रभात, कब सूरज नया उगेगा?
राष्ट्रसंघ में कब अपनी भाषा का भाग जगेगा?

भ्रष्ट राजनेताओं की, अब नष्ट सियासत करनी है।
सब भाषाओं के ऊपर अपनी भाषा अब धरनी है।।

21 टिप्‍पणियां:

  1. भ्रष्ट राजनेताओं की, अब नष्ट सियासत करनी है।
    सब भाषाओं के ऊपर अपनी भाषा अब धरनी है

    वाह! क्या बात है...क्या जज्बा है...तथास्तु

    उत्तर देंहटाएं
  2. रूस, चीन, जापान सबल हैं, अपनी ही भाषा से।
    देख रही है हिन्दी, अपनों को कितनी आशा से।।
    बिल्कुल सटीक चित्रण किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अत्यंत लाजवाब और सटीक रचना.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  4. हिन्दी पखवाड़े पर सुंदर रचना .... जय हिन्द जय हिन्दी !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपके ब्लॉग पर टिपण्णी करने के लिए हिंदी ट्रांसलेशन निकालना पड़ा !हिंदी की उन्नति की जो बात है !इस कविता ने तो कमाल का असर दिल पर छोड़ा है !बहुत बहुत उत्तम कविता है !आपको इस कविता के लिए विशेष बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया प्रस्तुति ||

    आपको हमारी ओर से

    सादर बधाई ||

    उत्तर देंहटाएं
  7. हमें पूरा विश्वास है कि एक न एक दिन जरूर आयेगा जब आसमान में उड़नेवालों को अहसास होगा कि अपनी माटी की खुशबू के आगे आसमान के चाँद-सितारे तुच्छ हैं.उस दिन राष्ट्र-संघ में हिंदी का नया सूरज उगेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बढ़िया कविता है !आपको इस कविता के लिए बधाई, जय हिन्दी

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी आवाज हम सबकी आवाज , हिंदी अमृत -धारा है ,इसके साथ बहना ही होगा ......./सम्माननीय सृजन ,

    उत्तर देंहटाएं
  10. ऐसी भाषा बोलिये, जो समझी ना जाय
    भ्रष्‍ट भ्रष्‍ट समझा करे, जनता समझ न पाय।

    उत्तर देंहटाएं
  11. यह एक क्रांतिकारी विश्वासों से लबरेज़ गीत है। इसका ओज और विश्वास जोश से भर देता है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. कभी तो सपना सच होगा.. सुन्दर अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  13. गम्भीरती से सोचने को बाध्य करती हुई प्रेरक रचना.हमारी आवाज भी आपके साथ है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. कब आयेगा सुप्रभात, कब सूरज नया उगेगा?
    राष्ट्रसंघ में कब अपनी भाषा का भाग जगेगा?
    श्री मान जी वो सुबह जरुर आएगी ....
    ............बहुत ही अच्छी रचना ......
    ..........धन्यवाद् ......

    उत्तर देंहटाएं
  15. ष्ट राजनेताओं की, अब नष्ट सियासत करनी है।
    सब भाषाओं के ऊपर अपनी भाषा अब धरनी है।।....

    देर है लेकिन अंधेर नहीं है। अपनी भाषा का सम्मान करना एक दिन तो सब समझेंगे ही।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  16. dr.saheb aapako ye jankar pata nahi kaisa lagega ki hindi hamari rastriy bhasha hi nahi hai.ek r.t.i. ke jawab m home minisre ne ye zawab diya hai ji

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails