"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 10 सितंबर 2011

‘‘दस्तूर को पहचानते हैं’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


 
ईद, होली के दिनों में,
प्यार के दस्तूर को पहचानते हैं।
हम तो वो शै हैं,
जो पत्थर को मनाना जानते हैं।

वायदों और वचन के पाबन्द हम,
फूल में हैं गन्ध के मानिन्द हम,
दोस्ती को हम निभाना जानते हैं।

हमने अंधियारे घरों को जगमगाया,
रोशनी के वास्ते दीपक जलाया,
प्रीत का दरिया बहाना जानते हैं।

हम बिना दस्तक दिये, जाते नही हैं,
किन्तु वे हरकत से बाज आते नही हैं,
नाग का हम फन कुचलना जानते हैं।

17 टिप्‍पणियां:

  1. sunder geet

    pyar ka sandesh dene vale desh ko ab naag ka fn kuchlna hi hoga , ydi abhi der ki to bahut der ho sakti hai

    उत्तर देंहटाएं
  2. हम बिना दस्तक दिये, जाते नही हैं,
    किन्तु वे हरकत से बाज आते नही हैं,
    नाग का हम फन कुचलना जानते हैं।

    ....बहुत सुन्दर प्रस्तुति...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. .बहुत सुन्दर प्रस्तुति...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. ईद, होली के दिनों में,
    प्यार के दस्तूर को पहचानते हैं।
    हम तो वो शै हैं,
    जो पत्थर को मनाना जानते हैं।
    bahut sundar vichaar hain aapke best wishes.....

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपको बहुत बहुत बधाई --
    इस जबरदस्त प्रस्तुति पर ||

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही प्यारी और सुन्दर पंक्तिया ....

    उत्तर देंहटाएं
  7. ईद, होली के दिनों में,
    प्यार के दस्तूर को पहचानते हैं।
    हम तो वो शै हैं,
    जो पत्थर को मनाना जानते हैं

    bahut khoobsoorat prastuti......dil ko chhoo gayii.

    उत्तर देंहटाएं
  8. वर्तमान की सच्चाई निहित है आपकी इस रचना में....

    उत्तर देंहटाएं
  9. वायदों और वचन के पाबन्द हम,
    फूल में हैं गन्ध के मानिन्द हम,
    दोस्ती को हम निभाना जानते हैं।
    क्या बात है सर ! बहुत खूब कहा भी ,निभाया भी , ..../
    शुक्रिया जी /

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  11. bahut achcha milanbhaav pyaar ka sndesh deti hui prerak rachna.badhaai.

    उत्तर देंहटाएं
  12. हम बिना दस्तक दिये, जाते नही हैं,
    किन्तु वे हरकत से बाज आते नही हैं,
    नाग का हम फन कुचलना जानते हैं।

    अच्छाई का मतलब यह तो नहीं कि बुराई का प्रतिकार भी न हो. सुंदर संदेश देती उत्कृष्ट रचना.

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails