"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 3 फ़रवरी 2010

“कैसे मैं घाव भरूँ?” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

कैसे मैं दो शब्द लिखूँ और कैसे उनमें भाव भरूँ?
परिवेशों के रिसते छालों के, कैसे मैं अब घाव भरूँ?

मौसम की विपरीत चाल है,
धरा रक्त से हुई लाल है,
दस्तक देता कुटिल काल है,
प्रजा तन्त्र का बुरा हाल है,
बौने गीतों में कैसे मैं, लाड़-प्यार और चाव भरूँ?
परिवेशों के रिसते छालों के, कैसे मैं अब घाव भरूँ?

पंछी को परवाज चाहिए,
बेकारों को काज चाहिए,
नेता जी को राज चाहिए,
कल को सुधरा आज चाहिए,
उलझे ताने और बाने में, कैसे सरल स्वभाव भरूँ?
परिवेशों के रिसते छालों के, कैसे मैं अब घाव भरूँ?

भाँग कूप में पड़ी हुई है,
लाज धूप में खड़ी हुई है,
आज सत्यता डरी हुई है,
तोंद झूठ की बढ़ी हुई है,
रेतीले रजकण में कैसे, शक्कर के अनुभाव भरूँ?
परिवेशों के रिसते छालों के, कैसे मैं अब घाव भरूँ?

18 टिप्‍पणियां:

  1. पंछी को परवाज चाहिए,
    बेकारों को काज चाहिए,
    नेता जी को राज चाहिए,
    कल को सुधरा आज चाहिए,
    उलझे ताने और बाने में, कैसे सरल स्वभाव धरूँ?
    परिवेशों के रिसते छालों के, कैसे मैं घाव भरूँ?

    वक्त के तकाजे का सुन्दर चित्रण शास्त्री जी !

    उत्तर देंहटाएं
  2. Appki kavita me aapki aur aap jaisi soch rakhnewale kaiyo ki sanvedena jhalkti hai. kya ab kuch nahi hosakta?

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही अच्‍छी कविता, आनन्‍द आ गया। इतनी सधी हुई कविता बह‍ुत दिनों बाद पढ़ी, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. भाँग कूप में पड़ी हुई है,
    लाज धूप में खड़ी हुई है,
    आज सत्यता डरी हुई है,
    तोंद झूठ की बढ़ी हुई है,
    कटु यथार्थ है. वाकई सत्यता तो आज डरी ही है

    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  5. सत्य को दर्शाती सुन्दर रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  6. मौसम की विपरीत चाल है,
    धरा रक्त से हुई लाल है,
    दस्तक देता कुटिल काल है,
    प्रजा तन्त्र का बुरा हाल है,
    बौने गीतों में कैसे मैं, लाड़-प्यार और चाव भरूँ?
    परिवेशों के रिसते छालों के, कैसे मैं अब घाव भरूँ...
    vaah ,badhiya rchna.

    उत्तर देंहटाएं
  7. यथार्थपरक रचना ..वर्तमान परिपेक्ष्य की कमजोरियों का बहुत सही बखान किया आपने!
    आभार !!
    http://kavyamanjusha.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  8. aaj to shastri ji kamaal hi kar diya hai ...........sare riste zakhmo ko ek baar hi dikha diya hai magar aaj ke parivesh mein ye ghav itni aasani se bharne wale nhi hain.

    उत्तर देंहटाएं
  9. पंछी को परवाज चाहिए,
    बेकारों को काज चाहिए,
    नेता जी को राज चाहिए,
    कल को सुधरा आज चाहिए,

    सच कहा आपने बेकारों को काज चाहिए... बहुत सुंदर और सटीक कविता...

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह!
    पंछी को परवाज चाहिए,
    बेकारों को काज चाहिए,
    नेता जी को राज चाहिए,
    कल को सुधरा आज चाहिए,
    सत्य वचन

    उत्तर देंहटाएं
  11. पंछी को परवाज चाहिए,
    बेकारों को काज चाहिए,
    नेता जी को राज चाहिए,
    कल को सुधरा आज चाहिए,
    शानदार गीत
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  12. रेतीले रजकण में कैसे, शक्कर के अनुभाव भरूँ?
    परिवेशों के रिसते छालों के, कैसे मैं अब घाव भरूँ

    अहह सटीक,सुंदर,सच्ची ...बहुत सुंदर.....

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह शास्त्री जी,,बेहतरीन कविता...बिल्कुल सच सच बात कह डाली आपने इस सुंदर कविता के माध्यम से....बधाई हो

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails