"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 24 फ़रवरी 2010

"दे रहा मधुमास दस्तक!" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")



Purple Flowers from San Francisco 
सुमन पुलकित हो रहा, 
अभिनव नवल शृंगार भर।
दे रहा मधुमास दस्तक,
है हृदय के द्वार पर।।


भ्रमर की गुञ्जार गुन-गुन, 

गान है गाने लगी,
तितलियों की फड़फड़ाहट, 
कान में आने लगी,
छा गया है रंग, 
मधुवन में बसन्ती रूप धर।
दे रहा मधुमास दस्तक,
है हृदय के द्वार पर।।


फूलती खेतों में सरसों, 

आम बौराने लगे,
जुगलबन्दी छेड़कर, 
प्रेमी युगल गाने लगे,
चहकते प्यारे परिन्दे, 
दुर्ग की दीवार पर।
दे रहा मधुमास दस्तक, 
है हृदय के द्वार पर।।


दुःख की बदली छँटी,  

सूरज उगा विश्वास का,
जल रहा दीपक दिलों में, 
स्नेह ले उल्लास का,
ज्वर चढ़ा, पारा बढ़ा है, 
प्यार के संसार पर।
दे रहा मधुमास दस्तक, 
है हृदय के द्वार पर।।

17 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढिया.
    शास्त्री जी, कुछ फोटू मुझे मेल कर दीजिये.
    मैं भी आपको दोपहर बाद कुछ फोटू मेल करता हूं.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी एक सुंदर रचना अभिव्‍यक्ति में प्रकाशित हो चुकी है। लगता है वसंत आया है




    टेसू की
    डालियाँ फूलतीं,
    खेतों में
    बालियाँ झूलतीं,
    लगता है बसन्त आया है!

    केसर की
    क्यारियाँ महकतीं,
    बेरों की
    झाड़ियाँ चहकती,
    लगता है बसन्त आया है!

    आम-नीम
    पर बौर छा रहा,
    प्रीत-रीत
    का दौर आ रहा,
    लगता है बसन्त आया है!

    सूरज है
    फिर से मुस्काया,
    कोयलिया
    ने गान सुनाया,
    लगता है बसन्त आया है!

    शिव का
    होता घर-घर वन्दन,
    उपवन में
    छाया स्पन्दन,
    लगता है बसन्त आया है!

    --डॉ रुपचंद्र शास्त्री मयंक

    उत्तर देंहटाएं
  3. फूलती खेतों में सरसों,
    आम बौराने लगे,
    जुगलबन्दी छेड़कर,
    प्रेमी युगल गाने लगे,
    चहकते प्यारे परिन्दे,
    दुर्ग की दीवार पर।

    सुंदर कवित्त-आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. फूलती खेतों में सरसों,
    आम बौराने लगे,
    जुगलबन्दी छेड़कर,
    प्रेमी युगल गाने लगे,
    वाह!!इस सुन्दर रचना के लिये आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  5. रचना बहुत सुंदर है शाश्त्रीजी. पर ये नीरज जाटजी कौन से लेन देन की बात कर रहे हैं?:)

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  6. नीरज जाट जी नानकमत्ता के फोटो माँग रहे हैं!
    क्योंकि 3 दिन पहले ये हमारे साथ थे!

    उत्तर देंहटाएं
  7. अच्छा और सुन्दर गीत. अन्तिम पंक्तियों में आशा और विश्वास का सुंदर संदेश है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. भावभीना गीत...

    ये पंक्तियाँ विशेष पसंद आयीं ..

    दुःख की बदली छँटी,
    सूरज उगा विश्वास का,
    जल रहा दीपक दिलों में,
    स्नेह ले उल्लास का,

    उत्तर देंहटाएं
  9. दुःख की बदली छँटी,
    सूरज उगा विश्वास का,
    जल रहा दीपक दिलों में,
    स्नेह ले उल्लास का,
    ज्वर चढ़ा, पारा बढ़ा है,
    प्यार के संसार पर।
    दे रहा मधुमास दस्तक,
    है हृदय के द्वार पर।।

    behtreen rachna........aaj to shabd kam pad rahe hain.

    उत्तर देंहटाएं
  10. दुःख की बदली छँटी,
    सूरज उगा विश्वास का,
    जल रहा दीपक दिलों में,
    स्नेह ले उल्लास का,
    ज्वर चढ़ा, पारा बढ़ा है,
    प्यार के संसार पर।
    दे रहा मधुमास दस्तक,
    है हृदय के द्वार पर।।
    फ्फलगुनी रंग मे रंगी सुन्दर कविता बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुमन पुलकित हो रहा,
    अभिनव नवल शृंगार भर.nice

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुमन पुलकित हो रहा,
    अभिनव नवल शृंगार भर।
    दे रहा मधुमास दस्तक,
    है हृदय के द्वार पर।।

    sundar

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails