"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 19 फ़रवरी 2010

“होली आई होली” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

holi_group
गली-गली में घूम रहीं हैं, हुलियारों की टोली।
नाच उठी चञ्चल नयनों  में, रंगों की रंगोली।।

उड़ते हैं अम्बर में गुलाल, 
नभ-धरा हो गये लाल-लाल,
गोरी का बदरंग हाल, थिरकी है हँसी-ठिठोली।
नाच उठी चञ्चल नयनों  में, रंगों की रंगोली।।

परिवेशों में मनमानी है,
धरती की चूनर धानी है,
नदियों में निर्मल पानी है, गंगा कल-कल बोली।
नाच उठी चञ्चल नयनों  में, रंगों की रंगोली।।


तन-मन बहका-बहका सा है,
उपवन महका-महका सा है,
नन्दनवन चहका और बोला, होली आई  होली।
नाच उठी चञ्चल नयनों  में, रंगों की रंगोली।।

12 टिप्‍पणियां:

  1. gazab ka holi geet likha hai......sach sare hi rang bhar diye hain holi ke.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत से रंगों से सराबोर होली का गीत....

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह रंग ही रंग चारो ओर, बहुत सुंदर जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    इसे 20.02.10 की चिट्ठा चर्चा (सुबह ०६ बजे) में शामिल किया गया है।
    http://chitthacharcha.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहतरीन प्रस्तुति
    होली की बहुत बहुत बधाई ................

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails