"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 27 फ़रवरी 2010

“रंगों का मौसम आया है” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

image 
गली-गली में कृष्ण-कन्हैया,
खेल रहे हैं जम कर होली!
रंगों का मौसम आया है,
थिरक रही है हँसी ठिठोली!!


राधारानी ओढ़ चुनरिया,
ढूँढ रही श्यामल साँवरिया,
नटवर-नागर मन भाया है,
चहक रही है दामन-चोली!
करते हैं सब हँसी ठिठोली!!


चन्दा हँसता नील-गगन में,
धवल चाँदनी है आँगन में,
सुमन चमन में मुस्काया है,
सजी हुई सुन्दर रंगोली!
थिरक रही है हँसी ठिठोली!!


मनमोहक मदमस्त नजारे,
नेह जगाती हैं बौछारें,
कोयल ने गाना गाया है,
अच्छी लगती मीठी बोली!
थिरक रही है हँसी ठिठोली!!


भेद-भाव का भूत भगा दो,
प्रेम-प्रीत की अलख जगा दो,
होली ने यह सिखलाया है,
आओ बनाएँ अपनी टोली!
थिरक रही है हँसी ठिठोली!!
(चित्र काव्य-तरंग से साभार)

20 टिप्‍पणियां:

  1. रंगों का मौसम आया है
    रंगकामनाएं साथ लाया है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर होली गीत । रंगोत्सव की हार्दिक शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया गीत!!

    ये रंग भरा त्यौहार, चलो हम होली खेलें
    प्रीत की बहे बयार, चलो हम होली खेलें.
    पाले जितने द्वेष, चलो उनको बिसरा दें,
    गले लगा लो यार, चलो हम होली खेलें.


    आप एवं आपके परिवार को होली मुबारक.

    -समीर लाल ’समीर’

    उत्तर देंहटाएं
  4. भेद-भाव का भूत भगा दो,
    प्रेम-प्रीत की अलख जगा दो,
    बहुत सुन्दर
    होली की हार्दिक शुभकामना और बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. Bahut sundar likha sir.. ise awaz bhi den.
    इस बार रंग लगाना तो.. ऐसा रंग लगाना.. के ताउम्र ना छूटे..
    ना हिन्दू पहिचाना जाये ना मुसलमाँ.. ऐसा रंग लगाना..
    लहू का रंग तो अन्दर ही रह जाता है.. जब तक पहचाना जाये सड़कों पे बह जाता है..
    कोई बाहर का पक्का रंग लगाना..
    के बस इंसां पहचाना जाये.. ना हिन्दू पहचाना जाये..
    ना मुसलमाँ पहचाना जाये.. बस इंसां पहचाना जाये..
    इस बार.. ऐसा रंग लगाना...
    (और आज पहली बार ब्लॉग पर बुला रहा हूँ.. शायद आपकी भी टांग खींची हो मैंने होली में..)

    होली की उतनी शुभ कामनाएं जितनी मैंने और आपने मिलके भी ना बांटी हों...

    उत्तर देंहटाएं
  6. होली के पावन अवसर पर लाजवाब प्रस्तुति , आपको होली की बहुत-बहुत बधाई एवं शुभकानायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपको और आपके परिवार को होली पर्व की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  8. भेद-भाव का भूत भगा दो,
    प्रेम-प्रीत की अलख जगा दो,
    होली ने यह सिखलाया है,
    आओ बनाएँ अपनी टोली!
    थिरक रही है हँसी ठिठोली!!
    सुन्दर सन्देश की सपरिवार हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  9. खूबसूरत होली गीत!

    आपको सपरिवार होली की बहुत बहुत शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  10. भेद-भाव का भूत भगा दो,
    प्रेम-प्रीत की अलख जगा दो,
    होली ने यह सिखलाया है,
    आओ बनाएँ अपनी टोली!
    थिरक रही है हँसी ठिठोली!!

    bahut badhiya holi geet...thirka dene par mazboor karta hua. badhayi.

    holi ki shubhkaamnaye.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत बढ़िया प्रस्तुति, रंग उत्सव होली की शुभकामनाये ....

    उत्तर देंहटाएं
  12. डॉ० साहब! होली के अवसर पर आपकी रचना को पढ़ कर बड़ा आनन्द आया। रंग-पर्व पर आप और आपका परिवार हर्ष और उल्लास से सराबोर हो!
    -डॉ० डंडा लखनवी

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुन्दर गीत है । आपको रंगपर्व की शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails