"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 18 फ़रवरी 2010

"सात रंगों से सजने लगी है धरा” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

 Palash and Parrot
धानी धरती ने पाया नया घाघरा।
रूप कञ्चन कहीं है, कहीं है हरा।।

पल्लवित हो रहा, पेड़-पौधों का तन,
हँस रहा है चमन, गा रहा है सुमन,
नूर ही नूर है, जंगलों में भरा।
रूप कञ्चन कहीं है, कहीं है हरा।।

देख मधुमास की यह बसन्ती छटा, 
शुक सुनाने लगे, अपना सुर चटपटा,
पंछियों को मिला है सुखद आसरा। 
रूप कञ्चन कहीं है, कहीं है हरा।। 

देश-परिवेश सारा महकने लगा,
टेसू अंगार बनकर दहकने लगा, 
सात रंगों से सजने लगी है धरा।
रूप कञ्चन कहीं है, कहीं है हरा।।

(चित्र गूगल सर्च से साभार)  

17 टिप्‍पणियां:

  1. kya baat hai guru ji...
    aisa mehsoos hua jaise ki main baag mein hoon aur prakriti ka aanand le raha hoon...


    aabhaar!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत शानदार. अपने गीतों और कविताओं को पाडकास्ट भी कीजिये

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रक्रती के सुन्दर रुप क वर्णन करता....बेहतरीन गीत!
    सादर
    http://kavyamanjusha.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  4. धानी धरती ने पाया नया घाघरा।
    रूप कञ्चन कहीं है, कहीं है हरा।।
    प्रकृति के स्वरूप का बहुत प्यरा चित्रण

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपके पास प्रकृति चित्रण की अद्भुत कला है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. धानी धरती ने पाया नया घाघरा!
    शुक सुनाने लगे, अपना सुर चटपटा!
    --
    आपने इस गीत को आज बहुत सुंदर
    बिंबों से सजाया है!

    उत्तर देंहटाएं
  7. देश-परिवेश सारा महकने लगा,
    टेसू अंगार बनकर दहकने लगा,
    सात रंगों से सजने लगी है धरा।
    रूप कञ्चन कहीं है, कहीं है हरा।।

    sunder manmohak ritu gaan.

    badhaai.

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रकृति की अद्भुत छटा का सुन्दर चित्रण।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर चित्रण किया आपने.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर शब्दों से प्राकृतिक सौंदर्य वर्णित किया है..

    देश-परिवेश सारा महकने लगा,
    टेसू अंगार बनकर दहकने लगा,

    फागुन आ गया....

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर धरती मां का श्रांगार आप ने दर्शाया

    उत्तर देंहटाएं
  12. देश-परिवेश सारा महकने लगा,
    टेसू अंगार बनकर दहकने लगा,
    सात रंगों से सजने लगी है धरा।
    रूप कञ्चन कहीं है, कहीं है हरा।।

    बहुत सुंदर पंक्तियाँ....

    आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  13. देश-परिवेश सारा महकने लगा,
    टेसू अंगार बनकर दहकने लगा,

    उत्तर देंहटाएं
  14. सात रंगों से सजने लगी है धरा।
    रूप कञ्चन कहीं है, कहीं है हरा।।
    बहुत सुन्दर रचना शास्त्री जी !

    उत्तर देंहटाएं
  15. sabhi prakritik rang bhar diye.........bahut hi sundar manbhavan geet.

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails