"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 15 फ़रवरी 2010

“महकी हवाएँ आने वाली हैं।” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

palas 

सुलगते प्यार में, महकी हवाएँ आने वाली हैं।
दिल-ए-बीमार को, देने दवाएँ आने वाली हैं।।

चटककर खिल गईं कलियाँ,
महक से भर गईं गलियाँ,
सुमन की सूनी घाटी में, सदाएँ आने वाली है।
दिल-ए-बीमार को, देने दवाएँ आने वाली हैं।।

चहकने लग गई कोयल,
सुहाने हो गये हैं पल,
नवेली कोपलों में, अब अदाएँ आने वाली हैं।
दिल-ए-बीमार को, देने दवाएँ आने वाली हैं।।

जवानी गीत है अनुपम,
भरे इसमें हजारों खम,
सुधा रसधार बरसाने, घटाएँ आने वाली हैं।
दिल-ए-बीमार को, देने दवाएँ आने वाली हैं।।

दिवस है प्यार करने का,
नही इज़हार करने का,
करोगे इश्क सच्चा तो, दुआएँ आने वाली हैं।
दिल-ए-बीमार को, देने दवाएँ आने वाली हैं।।

14 टिप्‍पणियां:

  1. करोगे इश्क सच्चा तो, दुआएँ आने वाली हैं।
    क्या बात है!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुधा रसधार बरसाने, घटाएँ आने वाली हैं।
    दिल-ए-बीमार को, देने दवाएँ आने वाली हैं।।


    वाह वाह!! बहुत सुन्दर गीत!

    उत्तर देंहटाएं
  3. चहकने लग गई कोयल,
    सुहाने हो गये हैं पल,
    नवेली कोपलों में, अब अदाएँ आने वाली हैं।
    दिल-ए-बीमार को, देने दवाएँ आने वाली हैं।।


    बहुत सुंदर पंक्तियों के साथ .............. सुंदर रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह बहुत ही सुंदर और मनमोहक गीत.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  5. करोगे इश्क सच्चा तो, दुआएँ आने वाली हैं।
    दिल-ए-बीमार को, देने दवाएँ आने वाली हैं।।

    waah ........kitni khoobsoorat baat kahi hai........dil ko choo gayi.

    उत्तर देंहटाएं
  6. करोगे इश्क सच्चा तो, दुआएँ आने वाली हैं।
    दिल-ए-बीमार को, देने दवाएँ आने वाली हैं।।
    बहुत खूब बडिया रचना है बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. जवानी गीत है अनुपम,
    भरे इसमें हजारों खम,
    सुधा रसधार बरसाने, घटाएँ आने वाली हैं।
    दिल-ए-बीमार को, देने दवाएँ आने वाली हैं।।

    bahut khoob..har sher lajawab.aur acchha flow.

    उत्तर देंहटाएं
  8. ki hum jo padh rahe hai,rooh mein bas jane wali hai.. :))))))))))

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह सर, कमाल है. इतने सुन्दर गीत, इतनी बढिया रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह!! बहुत सुन्दर गीत!
    २ दिनो से बहार थी ..आज हि पडी यह पोस्ट!!
    आभार

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails