"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 2 जून 2010

“बेमौसम वीरान हो गये!” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

गुमनामों की इस बस्ती में,
नेकनाम बदनाम हो गये!
जो मक्कारी में अव्वल थे,
वो अव्वल सरनाम हो गये!

जो करते हैं दगा-फरेबी,
वो पाते हैं दूध-जलेबी,
सच्चाई के सारे जेवर,
महफिल में नीलाम हो गये!

न्यायालय में न्याय बिक रहा,
सरे-आम अन्याय टिक रहा,
पंच और सरपंच अधिकतर,
पक्के बेईमान हो गये!

नेता अभिनय सीख रहे हैं,
दोराहों पर चीख रहे हैं,
ऊपर से इन्सान लग रहे,
भीतर से हैवान हो गये!

चौराहों से गांधी-बाबा,
देख रहे हैं खून-खराबा,
सत्य-अहिंसा वाले गुलशन,
बेमौसम वीरान हो गये!

15 टिप्‍पणियां:

  1. ऊपर से इन्सान लग रहे,
    भीतर से हैवान हो गये!
    यही सच है
    सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. रचना सामयिक स्थिति की जीवन्त तस्वीर है ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्रोध पर नियंत्रण स्वभाविक व्यवहार से ही संभव है जो साधना से कम नहीं है।

    आइये क्रोध को शांत करने का उपाय अपनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  4. नेता अभिनय सीख रहे हैं,
    दोराहों पर चीख रहे हैं,
    ऊपर से इन्सान लग रहे,
    भीतर से हैवान हो गये!


    सटीक और समयानुकूल रचना...ये सब देख कर कष्ट होता है..

    उत्तर देंहटाएं
  5. चौराहों से गांधी-बाबा,
    देख रहे हैं खून-खराबा,
    सत्य-अहिंसा वाले गुलशन,
    बेमौसम वीरान हो गये!

    सटीक बात कही , यही हो रहा है !

    उत्तर देंहटाएं
  6. sateek nishane pe laga hai teer...waise kaafi kuch inhi gaandhi baba ki den hai...

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्या कहने रचना के, बेमिसाल

    उत्तर देंहटाएं
  8. gazab ke bhav preshit kiye hain..........aaj ke jaroorat hai.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बढ़िया लिखा है शास्त्री जी । बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  10. न्यायालय में न्याय बिक रहा,
    सरे-आम अन्याय टिक रहा,
    पंच और सरपंच अधिकतर,
    पक्के बेईमान हो गये!
    बिल्कुल सही कहा है आपने! बहुत सुन्दरता से आपने सच्चाई को प्रस्तुत किया है!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails