"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 4 जून 2010

“स्वरावली” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


"अ" 
‘‘अ‘’ से अल्पज्ञ सब, ओम् सर्वज्ञ है। 
ओम् का जाप, सबसे बड़ा यज्ञ है।। 
‘‘आ’’ 
‘‘आ’’ से आदि न जिसका, कोई अन्त है। 
सारी दुनिया का आराध्य, वह सन्त है।। 
‘‘इ’’ 
‘‘इ’’ से इमली खटाई भरी, खान है। 
खट्टा होना खतरनाक, पहचान है।। 
‘‘ई’’ 
‘‘ई’’ से ईश्वर का जिसको, सदा ध्यान है। 
सबसे अच्छा वही, नेक इन्सान है।। 
‘‘उ’’ 
उल्लू बन कर निशाचर, कहाना नही। 
अपना उपनाम भी यह धराना नही।। 
‘‘ऊ’’ 
ऊँट का ऊँट बन, पग बढ़ाना नही। 
ऊँट को पर्वतों पर, चढ़ाना नही।। 
‘‘ऋ’’ 
‘‘ऋ’’ से हैं वह ऋषि, जो सुधारे जगत। 
अन्यथा जान लो, उसको ढोंगी भगत।। 
‘‘ए’’ 
‘‘ए’’ से है एकता में, भला देश का। 
एकता मन्त्र है, शान्त परिवेश का।। 
‘‘ऐ’’ 
‘‘ऐ’’ से तुम ऐठना मत, किसी से कभी। 
हिन्द के वासियों, मिल के रहना सभी।। 
‘‘ओ’’ 
‘‘ओ’’ से बुझती नही, प्यास है ओस से। 
सारे धन शून्य है, एक सन्तोष से।। 
‘‘औ’’ 
‘‘औ’’ से औरों को पथ, उन्नति का दिखा। 
हो सके तो मनुजता, जगत को सिखा।। 
‘‘अं’’ 
‘‘अं’’ से अन्याय सहना, महा पाप है। 
राम का नाम सबसे, बड़ा जाप है।। 
‘‘अः’’ 
‘‘अः’’ के आगे का स्वर,अब बचा ही नही। 
इसलिए, आगे कुछ भी रचा ही नही।।

28 टिप्‍पणियां:

  1. Bahut pyari sii vyakhya kii hai swaraksharon kii .Dhanybaad aur Badhai! to banti hi hai.sweekaren.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सन्देशों के ये प्याले हैं
    स्वरों के स्वर निराले हैं

    उत्तर देंहटाएं
  3. अंकित शेखर4 जून 2010 को 6:08 pm

    स्वरों पर बहुत ही अच्छी कविता है!

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज तो कमाल कर दिया और ये कमाल सिर्फ़ आप ही कर सकते हैं……………………ऐसी व्याख्या तो आज तक किसी ने नही पढी होगी……………इस तरीके से तो अनपढ भी पढ्ना सीख जाये।

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह-वाह.. सचमे बहुत सुन्दर , एक संजोने लायक ख़ूबसूरत रचना शास्त्री जी ! तीन बार पढ़ गया !

    उत्तर देंहटाएं
  6. dhnya ho..........

    dhnya hai aapki srijnaatmak urja aur dhnya hai vo log jinhen aapki rachnaayen padhne ka soubhagya milta hai

    ati uttam rachna ki aapne.
    jai ho !

    उत्तर देंहटाएं
  7. इतनी सुन्दर स्वरावलि तो बच्चों के पाठ्यक्रम होनी चाहिए....स्वर के साथ साथ अच्छा ज्ञान भी मिलेगा...

    बहुत सुन्दर रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  8. mujhe lag raha he me aapki paathshala me baithi hu aur aap danda lekar sab bacho k beech me ghoom ghoom kar ye sab yaad kara rahe hain.ha.ha.ha. maja aa gaya.

    उत्तर देंहटाएं
  9. अरे वाह, लेकिन व्यंजन अभी बाकी हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  10. मान गए शास्त्री जी आपको...हमारे जैसा आदमी तो ख्वाब में भी नहीं सोच सकता कि स्वरों पर भी ऎसा कुछ रचा जा सकता है..

    उत्तर देंहटाएं
  11. इतनी सुन्दरता से आपने अक्षरों को विस्तारित रूप से व्याख्या किया है कि मैं सोच रही हूँ फिर से छोटी सी बच्ची बन जाऊं और आपके पाठशाला में भर्ती हो जाऊं ! मैं तो आपकी रचना को पढ़कर निशब्द हो गयी! कमाल कर दिया है आपने शास्त्री जी! उम्दा प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  12. अद्धभुत...ये सिर्फ आप ही कर सकते हैं ..ठीक कहा संगीता दी ने ..इसे बच्चों के पाठ्यक्रम में होना चाहिए.

    उत्तर देंहटाएं
  13. नया पाठ मैंने भी समझ लिया है। कभी-कभी नहीं बल्कि प्रायः इसकी मुझे जरूरत रहती है।
    आपको बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुंदर जी आप की यह स्वर माला.
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  15. 05.06.10 की चिट्ठा चर्चा (सुबह 06 बजे) में शामिल करने के लिए इसका लिंक लिया है।
    http://chitthacharcha.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  16. काव्य में नया-नया प्रयोग करने में माहिर हैं आप। ये प्रस्तुति तो ... बस यही कहूंगा कि मील का पत्थर है।

    उत्तर देंहटाएं
  17. देखकर और पढ़कर लगा कि सच में बड़े लोगों के लिए भी एक वर्णमाला होनी चाहिए और उसको कुछ इसी तरह लिखा जाना चाहिए..

    उत्तर देंहटाएं
  18. फिल्म- देशप्रेमी
    गीत-महाकवि आनन्द बख्शी
    संगीत- लक्ष्मीकांत- प्यारेलाल
    नफरत की लाठी तोड़ो
    लालच का खंजर फेंको
    जिद के पीछे मत दौड़ो
    तुम देश के पंछी हो देश प्रेमियों
    आपस में प्रेम करो देश प्रेमियों
    देखो ये धरती.... हम सबकी माता है
    सोचो, आपस में क्या अपना नाता है
    हम आपस में लड़ बैठे तो देश को कौन संभालेगा
    कोई बाहर वाला अपने घर से हमें निकालेगा
    दीवानों होश करो..... मेरे देश प्रेमियों आपस में प्रेम करो

    मीठे पानी में ये जहर न तुम घोलो
    जब भी बोलो, ये सोचके तुम बोलो
    भर जाता है गहरा घाव, जो बनता है गोली से
    पर वो घाव नहीं भरता, जो बना हो कड़वी बोली से
    दो मीठे बोल कहो, मेरे देशप्रेमियों....

    तोड़ो दीवारें ये चार दिशाओं की
    रोको मत राहें, इन मस्त हवाओं की
    पूरब-पश्चिम- उत्तर- दक्षिण का क्या मतलब है
    इस माटी से पूछो, क्या भाषा क्या इसका मजहब है
    फिर मुझसे बात करो
    ब्लागप्रेमियों... आपस में प्रेम करो

    उत्तर देंहटाएं
  19. ग़ज़ब.... मैं यही कहता हूँ कि आपका कोई सानी नहीं.... बहुत शानदार पोस्ट....

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत खूब सर जी !
    बहुत सुन्दर रचना..
    नमन आपको |

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails