"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 6 जून 2010

“व्यञ्जनावली-चवर्ग” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)




patti1_thumb[3] copy
"च"

Spoon
"च" से चन्दा-चम्मच-चमचम!
चरखा सूत कातता हरदम!
सरदी, गरमी और वर्षा का,
बदल-बदल कर आता मौसम!!

"छ"

"छ" से छतरी सदा लगाओ!
छत पर मत तुम पतंग उड़ाओ!
छम-छम बारिश जब आती हो,
झट इसके नीचे छिप जाओ!!

"ज"
ship

"ज" से जड़ और लिखो जहाज!
सागर पार करो तुम आज!
पानी पर सरपट चलता जो,
उस जहाज पर हमको नाज!!

"झ"
flag

"झ" से झण्डा लगता प्यारा!
झण्डा ऊँचा रहे हमारा!
नही झुका है नही झुकेगा,
हम सबके नयनों का तारा!!

"ञ"
yan copy
"ञ" को अगर बोलना हो तो!
नाक बन्द कर “ज” बोलो तो!
"ञ" की ध्वनि सुनाई देगी,
थोड़ा सा मुँह को खोलो तो!!

15 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर भाव लिए कविता |एक सुंदर रचना पड़ने को मिली |

    उत्तर देंहटाएं
  2. व्यंजनों का सुन्दर प्रयोग ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. आईये जानें .... मन क्या है!

    आचार्य जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह जी, यह तो बहुत बढ़िया रहा.

    उत्तर देंहटाएं
  5. Bachchon ke gyaan vardhan waaste dheron saamgree hai aapke paas.Badhiyaa

    उत्तर देंहटाएं
  6. कमाल कर दिया आदरणीय.........

    जय हो !

    उत्तर देंहटाएं
  7. Bhai,
    Is tarah ki rachnayeen likhna sabke bas kii baat nahin.sachmuch ye rachnayen aapke vyktitv kavitv ki parichayak hain. sarahneey.Dil se badhai!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति....कल से ही सोच रही थी कि च वर्ग को आप कैसे प्रस्तुत करेंगे....लाजवाब प्रस्तुति है..

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर चल रही है यह अक्षरो की कडी धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  10. timeline on fashion history http://clothingtrends.eu/diesel-long-sleeve-jacket-for-men-white-item3482.html fashion tv castings 2188715

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails