"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 14 जून 2010

“पिता और बच्चा-William Butler Yeats” (अनुवाद-डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

Father and Child a poem 
by William Butler Yeats
अनुवाद-डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”
जब-जब भी प्रतिबन्धों का
रहस्य खोला है
नारी बँधी हुई है इनसे 
बालक ने यह बोला है


अच्छी महिलाएँ भी 
पुरुषों के अधीन हैं
कहने को स्वाधीन 
मगर सब पराधीन हैं


थामा हाथ पुरुष का
महिलाओं ने जब-जब
दुर्व्यवहार  बदले में पाया
उसने तब-तब


सबको उसका रूप 
और यौवन ही भाया
आँखों को शीतल हवा 
और बालों को सुन्दर बतलाया 
William Butler Yeats (1865-1939) was born in Dublin into an Irish Protestant family. His father, John Butler Yeats, a clergyman's son, was a lawyer turned to an Irish Pre-Raphaelite painter. Yeats's mother, Susan Pollexfen, came from a wealthy family - the Pollexfens had a prosperous milling and shipping business. His early years Yeats spent in London and Slingo, a beautiful county on the west coast of Ireland, where his mother had grown and which he later depicted in his poems. In 1881 the fami..

19 टिप्‍पणियां:

  1. कविता काफी पहले लिखी गयी, लेकिन आज भी खरी है..

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी महिलाएँ भी
    पुरुषों के अधीन हैं
    कहने का स्वाधीन
    मगर सब पराधीन हैं

    बहुत सार्थक रचना..और बेहतरीन अनुवाद ...वैसे अच्छी महिलाएं क्या सभी महिलाएं पराधीन हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी यह रचना कल मंगलवार १५-०६-२०१० को चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut hee saarthak rachna hai gur ji mahaaraaj....
    sachchai ko darshaati rachna bahut achhi lagi...

    उत्तर देंहटाएं
  5. आज भी ये उतनी ही सटीक जान पड़ती है ..क्या बदला है ..कुछ भी तो नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  6. आँखों को शीतल हवा
    और बालों को सुन्दर बतलाया

    और इस बतलाने के एवज़ में उसको पराधीन बनाया.
    सुन्दर रचना .. बहुत सुन्दर अनुवाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. अच्‍छी रचना .. हिंदी में अनुवाद कर हमें पढवाने का शुक्रिया !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक कमाल की रचना का
    अद्भुत अनुवाद
    आपको साधुवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर रचना .. सुन्दर अनुवाद....

    उत्तर देंहटाएं
  10. मुझे तो आज घर-घर में पराधीन पुरुष ही दिखायी दे रहे हैं। ऐसा करे कि अपने परिचितों में से या ब्‍लाग पर ही सर्वे करा लिया जाए कि कौन महिला पराधीन है और कौन पुरुष।

    उत्तर देंहटाएं
  11. khubsurat anuwaaad!!!

    sarthak rachna!! mahilayon ki isthithi.......wahin ki wahin........yug badal raha hai, desh badal gaye, lekin Janani ka roop waisa hi .......:(

    उत्तर देंहटाएं
  12. कुछ सत्य हर युग मे सटीक होते हैं और ये उनमे से ही है…………………बेह्तरीन अनुवाद्।

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुन्दर रचना .. सुन्दर अनुवाद....

    उत्तर देंहटाएं
  14. सत्य लिखा है इतने समय पहले भी .... सुंदर रचना के अनुवाद का शुक्रिया...

    उत्तर देंहटाएं
  15. कड़वी सच्चाई को तरूके से जबरदस्त सामने रखती कविता पर बधाई सवीकार करेंगे जी।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails