"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 6 जून 2010

“व्यञ्जनावली-टवर्ग” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)


"ट"
"ट" से टहनी और टमाटर!
अंग्रेजी भाषा है टर-टर!
हिन्दी वैज्ञानिक भाषा है,
सम्बोधन में होता आदर!!
"ठ"
"ठ" से ठेंगा और ठठेरा!
दुनिया में ठलुओं का डेरा!
ठग लोगों को बहकाता है,
तोड़ डालना इसका घेरा!!

"ड"
"ड" से बनता डम्बिल-डण्डा!
डलिया में मत रखना अण्डा!
रूखी-सूखी को खाकर के,
पानी पीना ठण्डा-ठण्डा!!

"ढ"
"ढ" से ढक्कन ढककर रखना!
ढके हुए ही फल को चखना!
मनमाने मत ढोल बजाना,
सच्चाई को सदा परखना!!


"ण"
"ड" को बोलो नाक बन्दकर!
मुख से "ण" का निकलेगा स्वर!
झण्डे-डण्डे में आधा “ण”,
सदा लगाना होता हितकर!!

14 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय़ शास्त्री जी, देखियेगा आपकी यह रचनायें किसी पुस्तक में छपी मिलेंगी भविष्य में.

    उत्तर देंहटाएं
  2. शास्त्री जी,

    आप हर रोज इतनी सुन्दर रचना बनाते हैं....अब तो प्रशंसा करना भी कम पड़ गया है....

    सराहनीय....एक दिन पाठ्यक्रम में ज़रूर शामिल होंगी ये रचनाएँ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut sunder kavita.
    bas ek jagah jo aapne THALUA word use kiya he uska meaning baccho ka na samajh aayega...aur koi asaan shabd hota to jyada bahtar tha..
    bachho k dimag k level se soche to shayed apko meri baat sahi lage.
    kshama chahungi is himakat k liye.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब युही लगे रहिये .............आभार और शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  5. सराहनीय....एक दिन पाठ्यक्रम में ज़रूर शामिल होंगी ये रचनाएँ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. शास्त्री जी आपकी हर एक रचनाएँ इतनी सुन्दर है कि आपकी लेखनी की जितनी भी तारीफ़ की जाए कम है! बहुत बहुत सुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस अक्षर ज्ञान सागर में हम भी गोता लगा रहे हैं .. बहुत लाजवब शास्त्री जी ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. क्या बात है………………गज़ब की प्रस्तुति……………ड और ण दोनो को कविता मे ढालना कोई आपसे सीखे।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर कविता... बच्चों को वर्णों का ज्ञान दिलाने में आसान करती है ये कविता

    उत्तर देंहटाएं
  10. यह व्यंजनावाली तो बड़ी रोचक है!

    उत्तर देंहटाएं
  11. कल मंगलवार को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है



    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails