"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 14 फ़रवरी 2012

"14 दोहे" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


प्रेम दिवस पर लीजिए, व्रत जीवन में धार।
पल-पल,हर पल कीजिए, सच्चा-सच्चा प्यार।‍‍‍१।
चहक रहे हैं बाग में, कलियाँ-सुमन अनेक।
धीरज और विवेक से, चुनना केवल एक।२।
जब विचार का मेल हो, समझो तभी बसन्त।
पल-प्रतिपल मधुमास है, समझो आदि न अन्त।३।
सुख सरिता बहती रहे, धार न हो अवरुद्ध।
निशि-दिन प्रेम प्रवाह से, इसको करो समृद्ध।४।

दिल से मत तजना कभी, प्रीत-रीत उदगार।
सारस से यह सीख लो, क्या होता है प्यार।५।

चिकनी-चुपड़ी पर कभी, मत टपकाओ लार।
सोच-समझकर ही सदा, देना कुछ उपहार।६।

कंकड़-काँटों से भरी, नहीं राह अनुकूल।
लेकर प्रीत कुदाल को, सभी हटाना शूल।७।

केशर-क्यारी को सदा, स्नेह सुधा से सींच।
पुरुष न होता उच्च है, नारि न होती नीच।८।

पत्नी, पुत्री, बहन का, मात-पिता का प्यार।
उनको ही मिलता सदा, जिनका हृदय उदार।९।
अपने बिल में सर्प भी, चलता सीधी चाल।
कदम-कदम पर बुन रहा, मानुष फिर क्यों जाल।१०।
बेटी-बेटे में करो, समता का व्यवहार।
बेटी ही संसार की, होती सिरजनहार।११।

पश्चिम की है सभ्यता, प्रेमदिवस का वार।
लेकिन अपने देश में, प्रतिदिन प्रेम अपार।१२।
जीवनभर ना मिट सके, बरसाओ वह रंग।
सिखलाओ संसार को, प्रेम-प्रीत का ढंग।१३।

आडम्बर से युक्त है, प्रेमदिवस का खेल।
चमक-दमक में खो गया, सुमनों का ये मेल।१४।

29 टिप्‍पणियां:

  1. पश्चिम की है सभ्यता, प्रेमदिवस का वार।
    लेकिन अपने देश में, प्रतिदिन प्रेम अपार...

    बहुत सुन्दर शास्त्री जी...
    सभी एक से बढ़ कर एक...
    सादर नमन.

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह जवाब नहीं ...बहुत बहुत अच्छे दोहे..
    आपकी लेखनी में जादू है ..
    kalamdaan.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  3. जब विचार का मेल हो, समझो तभी बसन्त।kitna achcha likhe hain....

    उत्तर देंहटाएं
  4. सार्थकता लिए हुए बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    कल 15/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है !
    क्‍या वह प्रेम नहीं था ?

    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रेमदिवस पर सच्चा प्रेम सन्देश ....
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  6. पश्चिम की है सभ्यता, प्रेमदिवस का वार,
    लेकिन अपने देश में, प्रतिदिन प्रेम अपार.

    अति सुन्दर मोती .

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर प्रस्तुति ,लाजबाब दोहे,....

    MY NEW POST ...कामयाबी...

    उत्तर देंहटाएं
  8. पश्चिम की है सभ्यता, प्रेमदिवस का वार।
    लेकिन अपने देश में, प्रतिदिन प्रेम अपार।


    sach hain ji ....

    उत्तर देंहटाएं
  9. //पश्चिम की है सभ्यता, प्रेमदिवस का वार।
    लेकिन अपने देश में, प्रतिदिन प्रेम अपार।१२।

    sabhi ek se badhkar ek hai sirji.. par ye waala aaj k mere mood se bilkul mel khaa gaya isliye dil ko kuch zyada hi bha gaya :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. १४ दमदार दोहे एक से बढकर एक.. लेकिन १२ वें और १४ वें ने अपना दिल जीत लिया...

    उत्तर देंहटाएं
  11. पत्नी, पुत्री, बहन का, मात-पिता का प्यार।
    उनको ही मिलता सदा, जिनका हृदय उदार...
    चिकनी चुपड़ी पर मत टपकाओ लार !
    सुनायी सबको खरी -खरी !

    उत्तर देंहटाएं
  12. सच है..एक से बढ़ कर एक है सभी....

    उत्तर देंहटाएं
  13. लाजवाब सटीक व शानदार दोहे।

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुन्दर विचार और सही सीख देते दोहे.

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails