"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

समर्थक

शुक्रवार, 3 फ़रवरी 2012

"रंग-बिरंगे सुमन सुहाते" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


मौसम कितना हुआ सुहाना।
रंग-बिरंगे सुमन सुहाते।
सरसों ने पहना पीताम्बर,
गेहूँ के बिरुए लहराते।।

दिवस बढ़े हैं शीत घटा है,
नभ से कुहरा-धुंध छटा है,
पक्षी कलरव राग सुनाते।

काँधों पर काँवड़ें सजी हैं,
बम भोले की धूम मची है,
शिवशंकर को सभी रिझाते।

होली की मस्ती छाई है,
अपनी बेरी गदराई है,
झूम-झूम सब हँसते गाते।

निर्मल है नदियों का पानी,
पेड़ों पर छा गई जवानी,
खुश हो करके ये इठलाते।

बच्चों अब मत समय गँवाओ,
पढ़ने में भी ध्यान लगाओ,
सीख काम की हम सिखलाते।

प्रतिदिन पुस्तक को दुहराओ,
पास परीक्षा में हो जाओ,
श्रम से सभी सफलता पाते।

21 टिप्‍पणियां:

  1. bahut sundar shikshprad geet bachchon ko hi nahi badon ko bhi pasand aayega.

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया सर...
    ये तो बच्चों की पाठ्य पुस्तक में शामिल की जानी चाहिए..

    सादर.

    जवाब देंहटाएं
  3. क्या बात है ..मौसम का सुनाया हाल ..
    और बच्चों को भी सीख ..
    kalamdaan.blogspot.in

    जवाब देंहटाएं
  4. वन्दना द्वारा blogger.bounces.google.com
    12:07 अपराह्न (11 मिनट पहले)

    मुझे
    वन्दना ने आपकी पोस्ट " मौसम कितना हुआ सुहाना।रंग-बिरंगे सुमन सुहाते।... " पर एक टिप्पणी छोड़ी है:

    सुन्दर रचना।

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर दादू......

    मौसम के साथ बढ़िया सीख....

    जवाब देंहटाएं
  6. सुहाने मौसम का मधुर वर्णन करती एक सुहानी सी बल-कविता....सचमुच बहुत ही अच्छी लगी!!!

    जवाब देंहटाएं
  7. प्रस्तुति शानदार है |
    बच्चों अब मत समय गँवाओ,
    पढ़ने में भी ध्यान लगाओ,
    सीख काम की हम सिखलाते।

    यहाँ पधारें

    http://www.akashsingh307.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  8. मेरे छोटे-२ बच्चे याद आ गए वे इसी तरह पढ़ा करते थे

    जवाब देंहटाएं
  9. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  11. प्रतिदिन पुस्तक को दुहराओ,
    पास परीक्षा में हो जाओ,
    श्रम से सभी सफलता पाते।

    बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत सुंदर बाल कविता- पाठ्यक्रम में होना चाहिए॥

    जवाब देंहटाएं
  13. बच्चों के लिए भी सीख है..बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
  14. पुस्तक अपनी, प्यार करो,
    शिक्षा का उपहार भरो..

    जवाब देंहटाएं
  15. बच्चों को शिक्षा देती एक खूबसूरत रचना |
    आशा

    जवाब देंहटाएं
  16. श्रम हि शक्ती है,
    बहूत सुंदर बाल कविता है .

    जवाब देंहटाएं
  17. achhi kavita hain....mausam ke apne rang hain..jo sab apki kavita me chalak aye hain

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails