"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 18 फ़रवरी 2012

"आयी है शिवरात" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

lord-shiva-35s
शिव-आशीषों की सौगात,
लेकर आयी है शिवरात,
बोलो हर-हर, बम-बम..!
बोलो हर-हर, बम-बम..!!

शंकर जी की आई याद,
बम भोले के गूँजे नाद,
बोलो हर-हर, बम-बम..!
बोलो हर-हर, बम-बम..!!

भूत-पिशा्च गणादि साथ,
लेकर निकले शिव बारात,
बोलो हर-हर, बम-बम..!
बोलो हर-हर, बम-बम..!!

जागा दयानन्द का ज्ञान,
भागा तमरूपी अज्ञान,
बोलो हर-हर, बम-बम..!
बोलो हर-हर, बम-बम..!!

शिव की लीला अपरम्पार,
व्रत-पूजन करता संसार,
बोलो हर-हर, बम-बम..!
बोलो हर-हर, बम-बम..!!

पावन गंगा-नीर विशेष,
शिवलिंग का होता अभिषेक,
बोलो हर-हर, बम-बम..!
बोलो हर-हर, बम-बम..!!

24 टिप्‍पणियां:

  1. वाह!!!!!बहुत अच्छी अभिव्यक्ति,सुंदर रचना

    MY NEW POST ...सम्बोधन...

    उत्तर देंहटाएं
  2. ओम नम: शिवाय्…………सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. जय भोलेनाथ की
    शिवरात्रि की ढेरों बधइयाँ

    उत्तर देंहटाएं
  4. bhaktiimay bhaav se poorn rachna...har har mahadev....jai bholenaath.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी अभिव्यक्ति,सुंदर रचना
    ओम नम: शिवाय्……

    उत्तर देंहटाएं
  6. हर हर बम बम,हर हर बम बम
    हर हर बम बम,हर हर बम बम

    सुन्दर नाद का गुंजन हो रहा है मन मष्तिस्क में.
    अनहद नाद गुंजाती अनुपम प्रस्तुति के लिए बहुत
    बहुत आभार,शास्त्री जी.

    मेरे ब्लॉग पर आईएगा.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेहतरीन भाव पूर्ण सार्थक रचना,
    jai bholenath

    उत्तर देंहटाएं
  8. पावन गंगा-नीर विशेष,
    शिवलिंग का होता अभिषेक,
    बोलो हर-हर, बम-बम..!
    बोलो हर-हर, बम-बम..!!
    सात्विक भाव को जागृत ऊर्जित करती रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  9. शिव जी की कृपा सब पर बनी रहे...
    सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह! बहुत सुन्दर सर...
    शिवरात्री की सादर बधाईयां...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बम बम भोले -- शिव रात्रि की मंगल कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुंदर प्रस्तुती...
    शिव जी कि असीम कृपा आप पर बनी रहे...:-)

    उत्तर देंहटाएं
  13. हर हर बम बम
    बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  14. ॐ नमः शिवाय!
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails