"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 8 फ़रवरी 2012

"हुई बदनाम है टोपी" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


सिरों की शान है टोपी।
हमारी आन है टोपी।।

बने हैं हंस से उजले,
हमारे देश के कौए,
गरीबों के निवालों को,
झपटने आ गये खौए,
इन्हें मालूम है इतना,
शराफत का यही परचम,
यही पहचान है टोपी।

पहन खादी की केंचुलियाँ,
बुना है ज़ाल टोपी से,
मिली इससे बड़ी कुर्सी,
कमाया माल टोपी से,
कलंकित हो गया बापू,
सियासत के समन्दर में,
हुई बदनाम है टोपी।

कहाये बोस नेता जी,
हमारे देश भारत के,
जवाहर-लाल ने धारी,
बने सिरमौर भारत के,
अगर है पात्रता क़ायम,
वतन के कर्णधारों का,
बढ़ाती मान है टोपी।
सिरों की शान है टोपी।
हमारी आन है टोपी।।

16 टिप्‍पणियां:

  1. व्यक्ति के सम्मान और अभिमान का प्रतीक है टोपी...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बचपन में हमने भी खूब उडाये थे !
    आपने वो गीत फिर याद दिला दिया शास्त्री जी ;
    रामचंद्र कह गए सिया से ऐसा कलयुग आयेगा
    हंस चुंगेगा दाना-तिनका, कौवा मोती खायेगा !

    उत्तर देंहटाएं
  3. sach me in netaaon ne khaadi aur topi dono ko badnaam kiya hai.bahut shandar kavita likhi hai.

    उत्तर देंहटाएं
  4. कहाये बोस नेता जी,
    हमारे देश भारत के,
    जवाहर-लाल ने धारी,
    बने सिरमौर भारत के,
    अगर है पात्रता क़ायम,
    वतन के कर्णधारों का,
    बढ़ाती मान है टोपी।
    सिरों की शान है टोपी।
    हमारी आन है टोपी।।
    टोपी उतारने और टोपी उछालने का दौर है यह .'पगड़ी संभाल जट्टा पगड़ी संभाल ओ ' का दौर न जाने कहाँ चला गया अब तो हर आदमी आतुर है नंगा होने को संसद के अन्दर भी ,बाहर भी ,गाली गलौच को संसदी भाषा कहा जाता है .सांसद संसद में ब्ल्यू फिल्म देख रहें हैं .टोपी की लाज ?टोपी उछाल जट्टा ,टोपी उछाल ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छा लिखा आपने,बढ़िया प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. सही कहा, गरिमा में कमी आई है इन्हीं की बदौलत.

    उत्तर देंहटाएं
  7. जब लोग ब्लड सैंपल देने से इनकार करें,तो बदनामी होनी ही है!

    उत्तर देंहटाएं
  8. टोपी ...की आन ,बान और शान का बखान सुंदर शब्दों में ...बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी पोस्ट चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    http://charchamanch.blogspot.com
    चर्चा मंच-784:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  10. टोपी पहनने वालों ने ही टोपी की गरिमा कम की है |

    Gyan Darpan
    ..

    उत्तर देंहटाएं
  11. आज के नेताओं ने ही टोपी और खादी को बदनाम किया है...बहुत सुंदर और सटीक प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails