"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 13 फ़रवरी 2012

"गीत प्रणय के गाते हैं" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


कोमलता अपनाने वाले,
गीत प्रणय के गाते हैं।
काँटों में मुस्काने वाले,
सबसे ज्यादा भाते हैं।।

सीधे-सादे, भोले-भाले,
रखते हैं अन्दाज़ निराले,
जो चंचल-नटखट होते हैं,
मन के होते हैं मतवाले.
हँसते हुए प्रसून देखकर,
दौड़े-दौड़े आते हैं।
काँटों में मुस्काने वाले,
सबसे ज्यादा भाते हैं।।

निर्झर शान्त नही हैं रहते,
प्रबल वेग से ये हैं बहते,
पाषाणों के अवरोधों को,
कदम-कदम पर ही हैं सहते,
साथ लिए जल की धारा को,
आगे को बढ़ जाते हैं।
काँटों में मुस्काने वाले,
सबसे ज्यादा भाते हैं।।

नहीं राज़ को कभी छिपाते,
कोरी बातें नहीं बनाते,
जो सच्चे प्रेमी होते हैं
प्रेमदिवस वो रोज मनाते,
बगिया को अपनी खुशबू से,
प्रतिदिन ही महकाते हैं।
काँटों में मुस्काने वाले,
सबसे ज्यादा भाते हैं।।

28 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर रचना...मनभावन...
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  2. नहीं राज़ को कभी छिपाते,
    कोरी बातें नहीं बनाते,
    जो सच्चे प्रेमी होते हैं
    प्रेमदिवस वो रोज मनाते,
    बगिया को अपनी खुशबू से,
    प्रतिदिन ही महकाते हैं।
    काँटों में मुस्काने वाले,
    सबसे ज्यादा भाते हैं।।

    बहुत सुन्दर भाव संजोये हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. bhole bhale mann wale sab ko bhate hain..utaam rachna....सीधे-सादे, भोले-भाले,
    रखते हैं अन्दाज़ निराले,
    जो चंचल-नटखट होते हैं,
    मन के होते हैं मतवाले.
    हँसते हुए प्रसून देखकर,
    दौड़े-दौड़े आते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut sundar bhaav sachche premi ke liye to roj hi premdivas hai.

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाकई ..हमें पश्चिमी सभ्यता अपनाने की ज़रुरत नहीं ..अपने भारत में तो वसंत स्वयं ही प्रेम और समर्पण का प्रतीक है..
    kalamdaan.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  6. काँटों में मुसकाने वाले,
    सबसे ज्यादा भाते हैं...
    वाह बहुत बढ़िया सार्थक गीत ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. काँटों में मुस्काने वाले,
    सबसे ज्यादा भाते हैं।।
    सचमुच....
    सुन्दर गीत सर.
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  8. कल 14/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  9. जो सच्चे प्रेमी होते हैं
    प्रेमदिवस वो रोज मनाते,

    ....बिलकुल सच...बहुत सुंदर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर,
    काँटों में मुस्काने वाले,
    सबसे ज्यादा भाते हैं। बधाई|

    उत्तर देंहटाएं
  11. जो पीड़ा झेलेगा, वही आनन्द उठायेगा..

    उत्तर देंहटाएं
  12. //काँटों में मुस्काने वाले,
    सबसे ज्यादा भाते हैं।।

    do hi panktiyo mein saar bhar diya sirji ..
    bahut sundar rachna..

    aapki rachnaaye main humesha zor-zor se gaane padhta hun.. bahut mazaa aata hai :D:D

    palchhin-aditya.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  13. मुझे तो इसका शीर्षक बहुत भाया (गीत प्रणय के गाते हैं .. रूप चंद्र शास्त्री)
    क्या इसे आपने भाभी जी को दिखाया
    वैसे मैंने इस कविता को अपने दिल में अपना लिया है
    क्योंकि आपने
    आपने विषय की मूलभूत अंतर्वस्तु को
    उसकी समूची विलक्षणता के साथ बोधगम्य बना दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  15. जो सच्चे प्रेमी होते हैं
    प्रेमदिवस वो रोज मनाते,
    बगिया को अपनी खुशबू से,
    प्रतिदिन ही महकाते हैं।
    sundar bhav bhari rachna ....

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह |||
    इस रचना की बात ही निराली है,,,,
    बहुत ही बेहतरीन प्रस्तुति है....:-)....

    उत्तर देंहटाएं
  17. कल 14/02/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर

    [प्यार का गुल खिलाने खतो के सिलसिले चलने लगे..हलचल का Valentine विशेषांक ]

    धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails