"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 24 फ़रवरी 2012

"आ जाएगा जीने का ढंग!" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

 
जब
भावनाओं का
ज्वार बढ़ जाता है
तब
बुद्धि मन्द हो जाती है
लाचारगी
और बेचारगी
का साया
मन पर
अधिकार कर लेता है
निश्चय और अनिश्चय में
झूलने लगता है
मन प्राण और देह
आते रहते हैं
नकारात्मक भाव
लेकिन
कुछ समय बाद
ज्वार निकल जाता है
सोच बदलने लगती है
तो
बुद्धि भी काम करने लगती है
और
हो जाता है
समस्याओं का हल
खिल जाता है
मन का कमल
मिल जाता है
आशातीत परिणाम
विषम परिस्थियों में
धैर्य और विवेक
रखना होगा अपने संग
तो खुद-ब-खुद
आ जाएगा जीने का ढंग!!

22 टिप्‍पणियां:

  1. महा-मनीषी भर रहे, जब जीवन में रंग ।

    सीखे निश्चय ही मनुज, तब जीने के ढंग ।।


    दिनेश की टिप्पणी - आपका लिंक
    http://dineshkidillagi.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  2. धैर्य और विवेक
    रखना होगा अपने संग
    तो खुद-ब-खुद
    आ जाएगा जीने का ढंग!!

    bahut sunder abhivyakti ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. aaj ye alag hi lekhni lag rahi hai aapki bahut umda bhaav bahut sundar.atukant kavita me bhi jaan dal di aapne.

    उत्तर देंहटाएं
  4. धैर्य और विवेक
    रखना होगा अपने संग
    तो खुद-ब-खुद
    आ जाएगा जीने का ढंग!………………बिल्कुल सही और सटीक बात कही है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सही है धीरज रखने से हि जिंदगी आसान होती है

    उत्तर देंहटाएं
  6. धैर्य और विवेक
    रखना होगा अपने संग
    तो खुद-ब-खुद
    आ जाएगा जीने का ढंग!!
    बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर सर...
    खुद पर विश्वास हो बस....
    समय के पहिये का रुख हम खुद मोड़ लेंगे...

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  8. धैर्य और विवेक
    रखना होगा अपने संग
    तो खुद-ब-खुद
    आ जाएगा जीने का ढंग!!bahut achchi pangtiyan.......

    उत्तर देंहटाएं
  9. विषम परिस्थियों में
    धैर्य और विवेक
    रखना होगा अपने संग
    तो खुद-ब-खुद
    आ जाएगा जीने का ढंग!!

    ....बिलकुल सच कहा है...बहुत सुंदर रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  10. जीवन दर्शन को कहती सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  11. कल शनिवार , 25/02/2012 को आपकी पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .

    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  12. आ जाएगा जीने का ढंग'
    बहुत सुन्दर |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  13. विषम परिस्थियों में
    धैर्य और विवेक
    रखना होगा अपने संग
    तो खुद-ब-खुद
    आ जाएगा जीने का ढंग!!
    बेहद सटीक सीख .चाहे तो सीख .

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहूत हि सही कहा है सर ,,
    खुद पर धीरज रखने से ,,,
    आपने क्रोध पर काबू रखने से
    सब ठीक हो जाता है....
    बेहतरीन रचना.....

    उत्तर देंहटाएं
  15. धैर्य और विवेक
    रखना होगा अपने संग
    तो खुद-ब-खुद
    आ जाएगा जीने का ढंग!!

    जीवन का सार .....बस इतना ही....!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. मन की व्यग्रता को बड़े सशक्त बिम्बों में चित्रित किया है आपने...उत्कृष्ट..

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails