"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 5 फ़रवरी 2012

"हो गया क्यों 'रूप' ऐसा" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

 
था कभी ये 'रूप' ऐसा।
हो गया है आज कैसा??
 
बालपन में खेल खेले।
दूर रहते थे झमेले।।

छा गई थी जब जवानी।
शक्ल लगती थी सुहानी।।
 
तब मिला इक मीत प्यारा।
दे रहा था जो सहारा।।

खुशनुमा उपवन हुआ था।
धन्य तब जीवन हुआ था।।
 
बढ़ी गई जब मोह-माया।
तब बुढ़ापे ने सताया।

जब हुई कमजोर काया।
मौत का आया बुलावा।।

चक्र है आवागमन का।
जगत है जीवन-मरण का।।

23 टिप्‍पणियां:

  1. पूरी ज़िन्दगी की दास्ताँ बहुत खूबसूरती से बयाँ कर दी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. पुष्पों के द्वारा जीवन के सच का वर्णन ..
    बहुत सुन्दर..
    kalamdaan.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  3. फूल के रूपक में जिंदगी का सच ब्यान कर दिया
    बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  4. हर सफ़र इन नियत चक्रों से गुज़रता
    जीवन का दार्शनिक सच

    उत्तर देंहटाएं
  5. जब तलक सूरज जलेगा
    सिलसिला यूँ ही चलेगा.

    अति सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  6. kuch hi panktiyon me jeevan aakkhyati likh di sach hai vaqt badhta jata hai har cheej ka swaroop badalta jata hai.phoolon ki tasveer ne kavita aur bhi rochak bana di hai.

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर प्रस्तुति...
    आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 06-02-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  8. पुष्पों के द्वारा जीवन के सच का वर्णन
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति ,अच्छी रचना
    नई रचना ...काव्यान्जलि ...: बोतल का दूध...

    उत्तर देंहटाएं
  10. डराने का तरीका पसंद आया...बचपन से बुढ़ापे तक का सफ़र...फूलों के माध्यम से...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बातों बातों में जीवन चक्र घुमा दिया।

    उत्तर देंहटाएं
  12. एक जन्मदिन गुज़रता है तो अक्सर ऐसे विचार घुमड़ते हैं मन में..

    बहुत अच्छी रचना..
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  13. उत्तर
    1. अनामिका जी!
      रचना में गुलाब का नहीं गेंदे का सुमन लगाया है मैंने!

      हटाएं
  14. तौबा तौबा ये मौत की बात कहाँ से आगई ...अभी बहुत लंबी जिंदगी है

    उत्तर देंहटाएं
  15. चक्र है आवागमन का।
    जगत है जीवन-मरण का।।
    अच्छाइयों की जैविक खाद और बुराइयों की खर पतवार हम यहीं छोड़ जातें हैं कर्म डोर से बंधे कूच कर जातें हैं ,खाली हाथ जाते हैं खाली हाथ आतें हैं .अलबत्ता जन्म के समय बच्चे की मुठ्ठी बंद होती है .तकदीर बंद होती है इस मुठ्ठी में . मुठ्ठी में जिसका निर्धारण अर्जित कर्म करतें हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  16. जब हुई कमजोर काया।
    मौत का आया बुलावा।।

    चक्र है आवागमन का।
    जगत है जीवन-मरण का।।

    bilkul adbhud rachana ....aj kal aisi rachanayen kam hi dekhane ko milati hain ....badhai mayank ji.

    उत्तर देंहटाएं
  17. जो रूप और शरीर आपका है ही नहीं
    तो मोह कैसा ? और आपकी आत्मा,
    वह तो पल-पल सुन्दर होती जा रही
    है फिर अफसोस कैसा ?
    सुन्दर रचना,
    सुन्दर प्रयास।
    धन्यवाद।
    आनन्द विश्वास

    उत्तर देंहटाएं
  18. पहली दो पंक्तियों और चित्रों का तालमेल बहुत अच्छा है!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails