"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 20 फ़रवरी 2012

"शिवरात्रि मेला-फोटोफीचर" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

आज महाशिवरात्रि है!
प्रातःकाल तो यहाँ दर्शनार्थी भक्तों की
बहुत लम्बी कतारें होती हैं।
इसलिए हम लोग शाम को 5 बजे
दर्शन और पूजा-अर्चना के लिए यहाँ पर आये।


कहा जाता है कि इस मन्दिर में स्थापित
यह मामूली सा दिखने वाला पत्थर
शिवरात्रि की रात में सात बार रंग बदलता है।
इसके प्रांगण में यह विशाल यज्ञकुण्ड स्थापित है।
यह मन्दिर में जाने का मुख्य द्वार है!

इसके बाहर के प्रांगण में
यह विशालकाय पीपल का वृक्ष है!
यह मन्दिर का मेनगेट है।
मेले में अभी भी बहुत चहल-पहल है!
श्रीमती जी पीपल के वृक्ष के नीचे
धूप लगाने की तैयारी कर रही हैं।


मन्दिर में छोटा पुत्र, पुत्रवधु और श्रीमती जी।
तभी आकाश में हवाई जहाज का भी
धुआँ नजर आ गया!
मेले में तो भगवान भी बिक रहे हैं।
यहाँ 5 दिनों तक लगने वाले मेले में
सभी दुकानें सजी-धजी हैं।
आँखों की सुरक्षा के लिए चश्में भी तो हैं।
चुनावों का मौसम हो और
चमचे न हों तो मज़ा ही क्या है?
मन्दिर के बाहर बाबा जी कितने रसविभोर होकर
शिव के भजन गा रहे हैं।
कुछ और भी चित्र नीचे हैं-

20 टिप्‍पणियां:

  1. आपने तो बहुत सारी चीजों के दर्शन करा दिए...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी फोटोमय सुंदर प्रस्तुति,......
    शिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें!.....
    MY NEW POST ...सम्बोधन...

    उत्तर देंहटाएं
  3. चुनावों का मौसम हो और
    चमचे न हों तो मज़ा ही क्या है?
    बहुत सुन्दरमहा- शिव रात्रि के विशेष पर्व पर .जी हाँ यह चिरकुटों जी हूजूरों का ही दौर है .

    उत्तर देंहटाएं
  4. लो बैठे बिठाए हमें भी chakarpur ke mele की sair करवा दी महा शिवरात्री पर्व पर .आपकी द्रुत ज़वाबी टिपण्णी बड़ी प्रेरक सिद्ध होती है लेखन की आंच सी .

    उत्तर देंहटाएं
  5. :-)

    भक्त से लेकर भगवान..
    चमचों से लेकर चश्मे...
    बढ़िया मेला भ्रमण सर..

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  6. अच्छा लगता है युवा पीढ़ी को धार्मिक आस्था में देखकर।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बढ़िया फोटो फीचर .... मेले की सैर करवाने के लिए आभार ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच
    पर की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  9. आज के इस पवित्र दिन वनखंडीनाथ के दर्शन कराने का आभार शास्त्री जी!

    उत्तर देंहटाएं
  10. सबको शिवरात्रि की शुभकामनायें..

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर !
    हर-हर महादेव ,जय भोले भंडारी की !

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुन्दर दर्शन ...शिवरात्रि की शुभकामनायें..
    kalamdaan.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  13. ्बहुत सुन्दर चित्रमय प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत हि सुन्दर छवियों का संकलन...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails