"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 1 अप्रैल 2013

"संस्मरण-वो फस्ट अप्रैल" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक)'

     एक अप्रैल अन्तर्राष्ट्रीय मूर्ख दिवस यूँ तो हर साल ही आता है। परन्तु मुझे इस दिन गुलबिया दादी की बहुत याद आती है।
     बात आज से 45 वर्ष पुरानी है। मैंने उन दिनों इण्टर की परीक्षा दी थी। नजीबाबाद के मूर्ति देवी सरस्वती इण्टर कालेज के प्रधानाचार्य श्री आर.एन.केला थे। जो लोकप्रिय होने के साथ-साथ अपने उच्च आदर्शों के लिए भी जाने जाते थे।
     मेरा चचेरा भाई जयपाल बचपन में काफी शैतान था।  अतः उसने फस्र्ट अपैल माने का अनोखा अन्दाज निकाल लिया था।
    एक अप्रैल को सुबह-सुबह उसने मिट्टी की प्याली में रेत भरा और उसके ऊपर दही और बूरा छिड़क दिया।
   अब वह इस प्याली को लेकर गुलबिया दादी के पास गया। बड़े प्यार से दादी को आवाज लगायी ।
   वह दादी से बोला- ‘‘दादी! आज केला जी मर गये हैं। वहाँ दही बूरा खिलाया जा रहा था। मैं तुम्हारे लिए भी ले आया हूँ।’’
   अब तो गुलबिया दादी बड़ी खुश हो गयी।
   बोली- ‘‘मैं अभी मुँह धोकर आती हूँ।’’
   दादी जैसे ही मुँह धोकर कर आयी। जयपाल ने दही-बूरे की प्याली उसे पकड़ा दी।
   दादी दही-बूरा खाने को बड़ी उतावली थी। उसने जैसे ही एक कौर खाया। मुँह रेत से भर गया।
    गुलबिया दादी का स्वभाव चिड़चिड़ा होने के बावजूद वह बच्चों से बहुत लगाव रखती थी। रेत मिला हुआ दही-बूरा खाते ही दादी तो जैसे पागल ही हो गयी थी।
   उसने जयपाल को गाली देनी शुरू कर दी और तुरन्त ही उसके पिता के पास रेत से भरी दही-बूरे की प्याली लेकर चली गयी।
    और बोली- ‘‘मक्खन! तेरे बेटे जयपाल ने मुझ बुढ़िया के साथ यह हरकत की है।’’
   गुलबिया की बात सुनकर चाचा जी ने जयपाल को बुलाया और जोर से डाँटने लगे।
   उन्होंने जयपाल से पूछा- ‘‘तूने ऐसी हरकत चाची के साथ क्यों की है?’’
    जयपाल ने उत्तर दिया- ‘‘पिता जी! आज फस्ट अप्रैल है।’’
    अब तो मक्खन चाचा जी ने हाथ में सण्टी उठा ली और जयपाल को पीटना शुरू कर दिया।
    बोले- ‘‘अबे! तुझे फस्ट अप्रैल ही मनाना था तो किसी पढ़े-लिखे को बे-वकूफ बनाता। इस बुढ़िया के साथ क्यों फस्ट अप्रैल मनाया?"
   उस दिन से जब भी एक अप्रैल आती है मुझे गुलबिया दादी और जयपाल की याद आ जाती है।

20 टिप्‍पणियां:

  1. अब इस उम्र में बस यही रोचक यादें बाकी रह गई है,,,

    उत्तर देंहटाएं
  2. अत्यंत रोचक संस्मरण. मूर्ख दिवस की आपको विशेष हार्दिक शुभकामनाएं.:)

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार2/4/13 को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  4. किसी बुज़ुर्ग को इस तरह.... ख़ैर! वो भी तो बच्चे ही थे...
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही रोचक संस्मरण,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच है बड़े के साथ ऐसी मजाक नहीं करनी चाहिए। लेकिन हम सब ही कर बैठते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. गुरूदेव बहुत रोचक संस्मरण प्रस्तुत किया आपने। हंसी रूक नहीं रही। आपका आभार इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  8. DEAR SIR,

    I NEED YOUR SUPPORT,SUJJETIONS & MARKS TO MAKE MY ALL BLOGS MORE USEFULL FOR PEOPLE..

    I AM DOING ALL THIS WORK TILL LAST 8 YEARS WITHOUT ANY HELP IN BLOGING..

    NOW I WANT TO MAKE THEM MORE USEFULL FOR POOR,PUZZELD, PEOPLS...

    I HAVE DONET 42 TIME MY BLOOD "A+" GROUP...I

    AM ALSO OPERTING A SCHOOL IN VRUNDAVAN,NEAR MATHURA(U.P.) WHERE MORE THEN 322 CHILDREN TAKING EDUCATION FREE OF COST WITH FREE FOOD,BOOKS & LODGING..

    I HOPE A POSITE & HELP REPLY BY YOU...

    THANKING YOU....
    YOUR'S
    PANDIT DAYANAND SHASTRI

    Thank you very much .
    पंडित दयानन्द शास्त्री
    Mob.--
    ---09024390067(RAJASTHAN);;
    ----vastushastri08@gmail.com;
    ----vastushastri08@rediffmail.com;
    ----vastushastri08@hotmail.com;
    My Blogs ----
    ----1.- http://vinayakvaastutimes.blogspot.in/?m=1/;;;;
    --- 2.- https://vinayakvaastutimes.wordpress.com/?m=1//;;;
    --- 3.- http://vaastupragya.blogspot.in/?m=1...;;;
    ---4.-http://jyoteeshpragya.blogspot.in/?m=1...;;;
    ---5.- http://bhavishykathan.blogspot.in/ /?m=1...;;;
    प्रिय मित्रो. आप सभी मेरे ब्लोग्स पर जाकर/ फोलो करके - शेयर करके - जानकारी प्राप्त कर सकते हे---- नए लेख आदि भी पढ़ सकते हे..... धन्यवाद...प्रतीक्षारत....

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी रचना निर्झर टाइम्स पर लिंक की गयी है। कृपया इसे देखें http://nirjhar-times.blogspot.com और अपने सुझाव दें।

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails