"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शुक्रवार, 12 अप्रैल 2013

"गणों के बारे में भी तो जानिए" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

       काव्य में रुचि रखने वालों के लिए और विशेषतया कवियों के लिए तो गणों की जानकारी होना बहुत जरूरी है ।
गण आठ माने जाते हैं!
१ - य - यगण
२ - मा - मगण
३ - ता - तगण
४ - रा - रगण 
५ - ज - जगण
६ - भा - भगण
७ - न - नगण 
८ - स - सगण - सलगा
       इसके लिए मैं एक सूत्र को लिख रहा हूँ-
"यमाताराजभानसलगा"
-- 
य - यगण 
 यमाता 
I S S 
लघु - गुरू - गुरू 
उदाहरण- लगाना, दिखाना आदि.। 
-- 
मा - मगण 
 मातारा 
S S S 
गुरू - गुरू - गुरू 
उदाहरण- दोराहा, सालाना आदि.। 
-- 
ता - तगण 
 ताराज 
S S I 
उदाहरण- सामान, दूकान आदि.। 
-- 
गुरू - गुरू - लघु 
रा - रगण 
राजभा 
S I S 
उदाहरण- पालना, थामना आदि.। 
-- 
गुरू - लघु - गुरू 
ज - जगण 
जभान 
I S I 
उदाहरण- मचान, लगान आदि.। 
--
लघु - गुरू - लघु 
भा - भगण 
भानस 
S I I 
उदाहरण- सादर, भाषण आदि.। 
-- 
गुरू - लघु - लघु 
न - नगण 
नसल 
I I I 
उदाहरण- गमन, वचन आदि.। 
--
लघु - लघु - लघु 
स - सगण 
सलगा 
I I S 
लघु - लघु - गुरू 
उदाहरण- बचना, सपना आदि.। 
--
कहिए मित्रों! 
सरल है ना गणों को याद रखना! 
अपको केवल निम्न सूत्र को कण्ठस्थ करना है!
--
यमाताराजभानसलगा
--
समय मिला तो आगामी किसी पोस्ट में 
छन्दों में इनका प्रयोग भी बताऊँगा...! 

13 टिप्‍पणियां:

  1. गुरूदेव यह बहुत पुनीत कार्य है। वरना तो इंटरनेट पर अराजकता फैली है जिसका जो मन आए वह लिख दे रहा है और ताल ठोंककर दावा कर रहा है कि जो लिखा वह छंद या गजल है। इस तरह के मार्गदर्शन की यहां बहुत आवश्यकता है जिससे कि आत्ममुग्ध लोग जान सकें कि जो उन्होंने लिखा वह वास्तव में कितने पानी में है और तदनुसार अपनी दुकानों के बोर्ड सुधार लें।
    सादर!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया जानकारी देने के लिए ,आभार शास्त्री जी,,

    Recent Post : अमन के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  3. डाक्टर साब मुझे कुछ समझ नहीं आया कृपा कर समझाएं |

    उत्तर देंहटाएं
  4. मार्गदर्शन के लिए धन्यवाद शास्त्री जी!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सही ज्ञान...जारी रहिये..इन्तजार कर रहे हैं इस तरह के आलेखों का...अब उपयोग बतलाईये...शुभकामनाएँ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. याद कर लिया, अब अगले की प्रतीक्षा है..

    उत्तर देंहटाएं
  7. रचनाकारों के लिए अत्यंत ही उपयोगी तथा ज्ञानवर्द्धक.आभार.......

    उत्तर देंहटाएं
  8. गुरु जी धन्यवाद कुछ ज्ञानवर्धक post के लिए
    ''नवरात्र''भाग 2

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी यह सुन्दर रचना निर्झर टाइम्स (http://nirjhar-times.blogspot.com) पर लिंक की गयी है और शनिवार दिनांक 13-4-2013 के अंक में प्रकाशित की जाएगी। कृपया इसे देखें और अपने सुझाव दें।

    उत्तर देंहटाएं

  10. कल दिनांक 14/04/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  11. इसे सिखने का प्रयास करेंगे,उपयोगी जानकारी देने का आभार गुरुदेव.

    उत्तर देंहटाएं
  12. जानकारी देने के लिए धन्यवाद , भारत में कवियों की बढती तादात के लिए बेहद उपयोगी टिप्स हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस विषय पर लगातार पोस्ट करने की कृपा करें.

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails