"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 21 अप्रैल 2013

"1700वीं पोस्ट-बहारों का भरोसा क्या?" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

१७००वाँ पुष्प
बहारों का भरोसा क्या, न जाने रूठ जायें कब?
सहारों का भरोसा क्या, न जाने छूट जायें कब?

अज़ब हैं रंग दुनिया के, अज़ब हैं ढंग लोगों के
इशारों का भरोसा क्या, न जाने लूट जायें कब?

चलाना संभलकर चप्पू, नदी की तेज है धारा,
किनारों का भरोसा क्या, न जाने घूँट जायें कब  

न कहना राज-ए-दिल अपना, कभी सूखे सरोवर से
फुहारों का भरोसा क्या, न जाने फूट जायें कब?

दमकते रूप का सोना, हमारी आँख का धोखा  
सितारों का भरोसा क्या, न जाने टूट जायें कब?

18 टिप्‍पणियां:

  1. न कहना राज-ए-दिल अपना, कभी सूखे सरोवर से
    फुहारों का भरोसा क्या, न जाने फूट जायें कब?...behatrin , superb

    उत्तर देंहटाएं
  2. दमकते “रूप” का सोना, हमारी आँख का धोखा
    सितारों का भरोसा क्या, न जाने टूट जायें कब?

    कमल नेत्र बन निस्पृह भाव से दुनिया को देख .धोखा मत खा .साक्षी बन .बढ़िया प्रस्तुति .

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहारों का भरोसा क्या, न जाने रूठ जायें कब?
    सहारों का भरोसा क्या, न जाने छूट जायें कब?

    1700वीं पोस्ट के लिए बधाई और शुभकामनाए ,,

    उत्तर देंहटाएं
  4. १७०० पोस्टों का पिटारा है आपका ब्लॉग ...
    बधाई इस पोस्ट पे ... बहुत बहुत शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी इस प्रविष्टि क़ी चर्चा सोमवार [22.4.2013]केएक ही गुज़ारिश :चर्चामंच 1222 पर
    लिंक क़ी गई है,अपनी प्रतिक्रिया देने के लिए पधारे आपका स्वागत है |
    सूचनार्थ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. अज़ब हैं रंग दुनिया के, अज़ब हैं ढंग लोगों के
    इशारों का भरोसा क्या, न जाने लूट जायें कब?
    1700वीं पोस्ट के लिए बधाई और शुभकामनाए
    latest post सजा कैसा हो ?
    latest post तुम अनन्त

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहारों का भरोसा क्या, न जाने रूठ जायें कब?
    सहारों का भरोसा क्या, न जाने छूट जायें कब?
    बहुत - बहुत बधाई ... 1700वीं पोस्‍ट के लिये
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  8. uff
    hamari to sir abhi 100 bhi nahi hue..
    aapne 1700 :)
    sachin tendulkar ho aap to :)
    badhai.......

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर रचना...1700 पोस्ट के लिय आप को हार्दिक शुभकामनाये...

    उत्तर देंहटाएं
  10. 1700 वीं पोस्‍ट के लिये कोटि कोटि बधाई
    my big guide

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails