"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 14 अप्रैल 2013

"सबको सुख पहुँचाते हैं" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

जब-जब आती मस्त बयारें,
तब-तब हम लहराते हैं।
काँटों की पहरेदारी में,
गीत खुशी के गाते हैं।।

हमसे ही अनुराग-प्यार है,
हमसे मधुमास जुड़ा,
हम संवाहक सम्बन्धों के,
सबके मन को भाते हैं।
काँटों की पहरेदारी में,
गीत खुशी के गाते हैं।।

स्वागत-अभिनन्दन हमसे है,
हमीं बधाई देते हैं,
कोमल सेज नयी दुल्हिन की,
आकर हमीं सजाते हैं।
काँटों की पहरेदारी में,
गीत खुशी के गाते हैं।।

तितली और शहद की मक्खी,
को पराग हम देते हैं,
अपनी मोहक मुस्कानों से,
भँवरों को भरमाते हैं।
काँटों की पहरेदारी में,
गीत खुशी के गाते हैं।।

खुश हो करके मिलो सभी से.
जीवन बहुत जरा सा है,
सुख-दुख में हँसते रहने का,
हम तो पाठ पढ़ाते हैं।
काँटों की पहरेदारी में,
गीत खुशी के गाते हैं।।

तोड़ हमें उपवन का माली,
विजयमाल को गूँथ रहा,
हम गुलाब हैं रंग-बिरंगे,
अपनी गन्ध लुटाते हैं।।
काँटों की पहरेदारी में,
गीत खुशी के गाते हैं।।

"रूप" हमारा देख-देखकर,
जग मोहित हो जाता है,
हम काँटों में पलने वाले,
सबको सुख पहुँचाते हैं।
काँटों की पहरेदारी में,
गीत खुशी के गाते हैं।।

14 टिप्‍पणियां:

  1. काँटों में गुलाब खिलते हैं , फिर भी कितना हँसते हैं |
    इसी लिये तो हर एक के मन में इन के चेहरे बसते हैं ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया प्रस्तुति शास्त्री जी, शीर्षक में दो को लग गए हैं उसे ठीक कर ले ! !आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. गुलाब और कांटे, दुख और सुख साथ साथ बांटे..

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर....बेहतरीन प्रस्तुति...शास्त्री जी!!
    पधारें "आँसुओं के मोती"

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह अति सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत प्यारी भावात्मक अभिव्यक्ति नवसंवत्सर की बहुत बहुत शुभकामनायें रिश्तों पर कलंक :पुरुष का पलड़ा यहाँ भी भारी .महिला ब्लोगर्स के लिए एक नयी सौगात आज ही जुड़ें WOMAN ABOUT MANजाने संविधान में कैसे है संपत्ति का अधिकार-1

    उत्तर देंहटाएं

  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति | शुभकामनायें . हार्दिक आभार नवसंवत्सर की बहुत बहुत शुभकामनायें हम हिंदी चिट्ठाकार हैं

    BHARTIY NARI
    PLEASE VISIT .

    उत्तर देंहटाएं
  8. गीत ख़ुशी के गाता हूँ
    जीवन का मनोहारी गीत
    बहुत सुंदर रचना
    उत्कृष्ट प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  9. अति सुन्दर प्रस्तुति,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  10. शब्द सुखमय,
    दृश्य मोहक,
    कथ्य करुणा,
    और क्या सुख?

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर प्रस्तुति -
    शुभकामनायें आदरणीय ||

    उत्तर देंहटाएं
  12. नव संवत्सर की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ!! बहुत दिनों बाद ब्लाग पर आने के लिए में माफ़ी चाहता हूँ

    बहुत खूब बेह्तरीन अभिव्यक्ति

    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    मेरी मांग

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति व प्रस्तुति सर!
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails