"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 2 सितंबर 2010

“श्रीकृष्ण जन्मोत्सव की बधाई!” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

योगिराज श्रीकृष्णचन्द्र महाराज की जय हो!

फल की इच्छा मत करो, कर्म करो निष्काम।
कण्टक वृक्ष खजूर पर, कभी न लगते आम।।
sri_krishna
जन्म लिया यदुवंश में, कहलाये गोपाल।
लीलाओं को देखकर, माता हुई निहाल।।

lord-krishna-govardhan-mountain
क्रूर कंस का नाश कर, कहलाए भगवान।।

jg04zd
जन, गण, मन में रम रहे, कृष्णचन्द्र महाराज।
गीता अमृतपान से, बनते बिगड़े काज।।

21 टिप्‍पणियां:

  1. कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ
    सभी चित्र बहुत मन भावन लगे

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति और प्यारे-प्यारे चित्र...श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपको भी कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ शास्त्री जी !

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर सन्देश देते हुए दोहे ..


    कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ .

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर। आपको भी शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बढ़िया


    श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह वाह बेहद खूबसूरत चित्रो के साथ सुन्दर दोहे।

    कृष्ण प्रेम मयी राधा
    राधा प्रेममयो हरी


    ♫ फ़लक पे झूम रही साँवली घटायें हैं
    रंग मेरे गोविन्द का चुरा लाई हैं
    रश्मियाँ श्याम के कुण्डल से जब निकलती हैं
    गोया आकाश मे बिजलियाँ चमकती हैं

    श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  8. मोहक चित्र और मनभावन दोहे,
    हर छवि में कान्हा भाए मोहे ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. अति सुंदर रचना ....
    श्री कृष्ण जन्माष्टमी की शुभ कामनाएँ...हरे कृष्ण

    उत्तर देंहटाएं
  10. जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत बढ़िया दोहे!
    मेरी तरफ से भी सबको
    श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर बधाई और शुभकामनाएँ!

    --
    मेरा कान्हा, मेरा मीत ... ... .
    आज सुना दे मुझको कान्हा ... ... .

    उत्तर देंहटाएं
  12. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपको एवं आपके परिवार को श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी प्रस्तुति का जवाब नहीं!

    उत्तर देंहटाएं
  15. आप की रचना 03 सितम्बर, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपनी टिप्पणियाँ और सुझाव देकर हमें अनुगृहीत करें.
    http://charchamanch.blogspot.com/2010/09/266.html


    आभार

    अनामिका

    उत्तर देंहटाएं
  16. अच्छे दोहे और चित्र |बधाई स्वीकार करें |जन्माष्टमी पर मेरी ओर से आपको सपरिवार शुभ कामनाएं |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  17. अच्छी है .........
    ( क्या चमत्कार के लिए हिन्दुस्तानी होना जरुरी है ? )
    http://oshotheone.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  18. अति सुन्दर और पावन दोहे.........

    बधाई हो जन्माष्टमी की मयंक जी !

    उत्तर देंहटाएं
  19. इन कृष्णमय दोहों के लिए साधुवाद |

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails