"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 27 सितंबर 2010

"छोड़ नगर का मोह" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


छोड़ नगर का मोह,
आओ चलें गाँव की ओर!
मन से त्यागें ऊहापोह,
आओ चलें गाँव की ओर!
ताल-तलैय्या, नदिया-नाले,
गाय चराये बनकर ग्वाले,
जगायें अपनापन व्यामोह,
आओ चलें गाँव की ओर!
खेतों में हल लेकर जायें,
भाभी भोजन लेकर आयें,
मट्ठा बाट रहा है जोह!
आओ चलें गाँव की ओर!
चौमासे में आल्हा गायें,
बैठ डाल पर जामुन खायें,
रक्खें नही बैर और द्रोह!
आओ चलें गाँव की ओर!
(चित्र गूगल सर्च से साभार)


32 टिप्‍पणियां:

  1. चलो गाँव की ओर...बड़ी जीवन्तता है इस कविता में..बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. गाँव को ही शहर बनायें
    सारी सुविधाएँ पहुंचाएं
    चलें गाँव की ओर

    बहुत खूबसूरत रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही कहा है आपने! अगर हम गाँव को शहर में परिवर्तन कर दें तो सबसे अच्छा रहेगा! बहुत ख़ूबसूरत रचना! मन प्रसन्न हो गया!

    उत्तर देंहटाएं
  4. भाभी भोजन लेकर आयें,
    मट्ठा बाट रहा है जोह!
    मट्ठा के नाम से मुँह मे पानी आगया। बधाई इस रचना के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  5. शास्त्री जी,

    क्या हम गाँव के मोह से मुक्त हो पाए हैं, वहाँ कुछ भी नहीं सही फिर भी वहाँ वो है जिसके लिए हम नगर में तरसते है. बस न सही बैलगाड़ी की सैर आज भी याद आती है. चनों के बूंट अभी भूले नहीं है. आपने फिर यादताजा कर दी.

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच कहा…………अगर ज़िन्दगी मे दो पल का सुकून चाहिये तो वो वहीं मिलेगा॥बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द रचना, भावमय प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मुझे भी जाना है गाँव...बहुत सुन्दर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  9. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना 28 - 9 - 2010 मंगलवार को ली गयी है ...
    कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  10. अभी नहीं शास्त्री जी, जब रिटायर होने की उम्र आयेगी तब, मैंने तो अभी से इंतजाम कर रखा है ! ख़ूबसूरत सन्देश देती रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  11. हम तो गांव में ही रहते हैं। अब के गांव इंटरनेटी गांव हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  12. भई बहुत खूब लिखा है
    छोड़ नगर का मोह
    आओ चलें गांव की ओर

    http://veenakesur.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  13. आदरणीय
    मयंक जी,
    आपने तो इस रचना में ग्राम्यांचल की तस्वीर रेखाचित्रित कर दी है.
    - विजय

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुंदर रचना सुंदर संदेश देती, वेसे मेरी तो बहुत सि जिन्दगी गांव मै ही बीती है, आज भी गांव मै ही हुं, धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  15. इसना सुन्दर चित्र खींचा है, सब भागने भी लगे हैं, गाँव की ओर।

    उत्तर देंहटाएं
  16. गाँव की ज़िन्दगी प्रकृति के अनुकूल है और मानव भी उसी का अंग है,जबकि शहर तो कृत्रिम व मशीनी साँस पर चलता है...

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपकी इस कविता को पढ़कर गांव का दृश्य सजीव हो उठा।

    उत्तर देंहटाएं
  18. छोटे शहर का हमेशा यह दुख होता है कि वह बड़ा शहर क्यों न हुआ , वह सोचता है इससे अच्छा तो गाँव होता ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. " behatarin ..gaon ko nazaroan ke samne khaa kar diya aapne

    badhai

    ----- eksacchai { AAWAZ }

    http://eksacchai.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपने इस कविता में ग्राम्य जीवन का इतना सुन्दर चित्रण किया है कि अब तो हमारा भी मन करने लगा है कि कम से कम कुछ दिन अब अपने गाँव का आनन्द लिया जाए....

    उत्तर देंहटाएं
  21. ग्रामीण अंचल की बहुत सुन्दर झाँकी प्रस्तुत की आपने....सच में गाँव का एक अपना ही अलग सुख है, जो शहरी जीवन में नहीं मिल सकता.
    बढिया प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  22. गाँव का आकर्षण और उसकी विविधता खींचती ही है.

    उत्तर देंहटाएं
  23. चले गाँव की और ...
    एक सार्थक अपील ...!

    उत्तर देंहटाएं
  24. kavita ke madhyam se achcha bhaav purn sandesh diya hai.shayad gaon se shahar aane vaale logon ko kuch samajh aaye.sahi kaha hai akanksha ji ne gaon ko hi shahar bana sakte hain,prayas ki jarurat hai.

    उत्तर देंहटाएं

  25. बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

    उत्तर देंहटाएं
  26. शास्त्री जी
    आपने तो बचपन की याद तजा कर दी ,शायद अब वो दिन कभी लौट के ना आयें अब तो गाँव भी बदल गए है
    कहते है हमारा देश गाँव में बस्ता है और अब तो खुद गाँव ही शहर में बसने की जिद पे अड़ा हुआ है ..
    भावों में बहुत कशिश है आपके
    आपकी कविता पढ़कर मुझे अपनी कुछ पंक्तियाँ याद आ गयी आप भी देखिये मेरी ख़ुशी के लिए

    http://nirjharneer.blogspot.com/2008/10/blog-post_14.html

    उत्तर देंहटाएं
  27. हमारा भी मन गांव की ओर जा रहा है.. लेकिन मजबूरी है.. जरुरत शहर और गांव के बीच सन्तुलन की है.. सुन्दर कविता के लिये बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  28. वाह...बहुत ही मोहक आह्वान ...
    इस सुन्दर कविता के लिए आभार आपका.

    उत्तर देंहटाएं
  29. गाव और शहर के बीच दुरी कम हो रही है.. गाव भी शहर मे तब्दील हो रहे है... लेकिन मोह तो बना रहेगा...

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails