"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 15 सितंबर 2010

"एक दोहा! एक गीत!!" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")



सबसे पहले देखिए यह दोहा




मास सितम्बर में सभी, करते हिन्दी गान।


बाकी ग्यारह माह में, अंग्रेजी बलवान।।


अब इस गीत को सुनिए-


अर्चना चावजी के स्वर में!
भारतमाता के सुहाग की, जो है पावन बिन्दी।
भोली-भाली सबसे प्यारी, है अपनी भाषा हिन्दी।।
भरी हुई है वैज्ञानिकता, व्यञ्जन और स्वरों में,
उच्चारण में बहुत सरलता, इसके सभी अक्षरों में,
ब्रज-गोकुल में बसी हुई हो, बनकर तुम कालिन्दी।
भोली-भाली सबसे प्यारी, है अपनी भाषा हिन्दी।।
सन्तों के कण्ठों से उपजी, मीठी-मीठी सुरसवती हो,
वीणा की झंकार सुनाती, सरस्वती सी सरसवती हो,
शीतल मन्द सुगन्ध पवन सी तुम बयार हो आनन्दी।
भोली-भाली सबसे प्यारी, है अपनी भाषा हिन्दी।।
अपनी हिन्दी भाषा का, कण-कण वन्दन करता है,
देवनागरी का जन-गण, मन से अभिनन्दन करता है,
इतना होने पर भी इंग्लिश भारत में क्यों जिन्दी?
भोली-भाली सबसे प्यारी, है अपनी भाषा हिन्दी।।

23 टिप्‍पणियां:

  1. अर्चनी जी की मधुर आवाज़ में गाना सुनकर बहत अच्छा लगा!
    बहुत सुन्दर गीत प्रस्तुत किया है आपने! लाजवाब!

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह, बहुत ही सुन्दर कविता। उससे भी सुन्दर गान।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अर्चना जी की आवाज़ और आपका गीत साथ मे दोहा चार चाँद लग गये हैं…………………बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  4. भाई राजेन्द्र स्वर्णकार जी!
    ध्यान दिलाने के लिए आभार!
    हुआ यह कि नेट खराब है। इसलिए मोबाइल से नेट चलाना पड़ रहा है!
    --
    दोहा छंद वास्तव में गलत हो गया था!
    कारण जल्दीबाजी ही रहा होगा!

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर सारगर्भित प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं
  6. मास सितम्बर में सभी, करते हिन्दी गान।

    बाकी ग्यारह माह में, अंग्रेजी बलवान।।
    ये बात सोलह आने सच है
    अर्चना जी की आवाज़ आवाज़ में गीत लाजवाब लगा!

    उत्तर देंहटाएं
  7. अर्चनी जी की मधुर आवाज सुन कर मजा आ गया, कविता ओर दोहा दोनो ही बहुत अच्छे लगे, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. बढ़िया दोहा, उम्दा रचना और मधुर गायन!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. hindi bhasha ke upar aapne laajabab likha hai.aur gaan sunkar to maja doguna ho gaya.aapko badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  10. bahut sundar ...sab kuch bahut accha hai.
    Aabhar
    http://anushkajoshi.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

  11. बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

    उत्तर देंहटाएं
  12. अर्चना जी के मधुर स्वर और सुंदर रचना बहुत अच्छी लगी |बहुत बहुत बधाई |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  13. आदरणीय शब्द ॠषि शास्त्रीजी
    और
    आदरणीया स्वर कोकिला अर्चना चावजी को विशेष बधाई !
    शब्द और स्वर के संगम से अद्भुत आनन्द की उत्पत्ति हुई है , जिसकी अनुभूति से मैं स्वयं को धन्य मानता हूं ।

    आपके बड़प्पन के आगे नतमस्तक हूं ।
    शुभकामनाओं सहित …
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  14. हिंदी दिवस के अवसर पर अर्चनी जी की मधुर आवाज़ और आपके गीत का संगम बहुत ही बढ़िया...सार्थक एवं प्रेरक रहा

    उत्तर देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails